भारतीय कंपनी MSN ग्रुप ने लॉन्च की कोरोना की सबसे सस्ती दवा ‘फेविलो’

चैतन्य भारत न्यूज

हैदराबाद की जेनरिक फार्मा कंपनी MSN ग्रुप द्वारा कोरोना वायरस की सबसे सस्ती दवा लॉन्च की है। इस दवा का नाम ‘फेविलो’ है। इस दवा में फेविपिराविर ड्रग का डोज है। जानकारी के मुताबिक, 200 एमजी फेविपिराविर की कीमत 33 रुपए है। कंपनी जल्दी ही फेविपिराविर की 400 एमजी टेबलेट भी लॉन्च करेगी।

कोरोना मरीजों के लिए पहले भी दवा लॉन्च कर चुकी है कंपनी

बता दें MSN ग्रुप इससे पहले भी कोरोना के मरीजों के लिए एंटीवायरल ड्रग ऑसेल्टामिविर को ऑस्लो नाम से लॉन्च कर चुका है। यह 75 एमजी की टेबलेट है। MSN ग्रुप के सीएमडी डॉ. एमएसएन रेड्डी ने यह दावा किया है कि फेविलो कोविड-19 की सबसे प्रभावी और किफायती दवा है। उनका कहना है कि, ‘हमारी कंपनी दवाओं की क्वालिटी का ध्यान रखने के साथ उसे लोगों को उपलब्ध कराने में विश्वास रखती है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया फेविपिराविर को मंजूरी दे चुका है। इससे कोरोना के हल्के और मध्यम लक्षण वाले मरीजों का इलाज किया जा सकेगा।’

अब तक फेविपिराविर का इस्तेमाल इन्फ्लुएंजा में किया जा रहा था

बता दें फेविपिराविर ड्रग को जापानी कंपनी फुजीफिल्म होल्डिंग कॉर्प द्वारा तैयार किया जाता है। जापानी कंपनी इसे एविगन के नाम से बाजार में बेचती है। 2014 से इसका इस्तेमाल इन्फ्लुएंजा के इलाज में किया जा रहा है। ग्लेनमार्क फेविपिराविर के ब्रांड ‘फैबीफ्लू’ को कंपनी जल्द ही 400 एमजी डोज में लाने वाली है। कंपनी का कहना है कि, इससे रोगियों को कम टेबलेट्स में पूरा डोज मिल जाएगा। फैबीफ्लू का इस्तेमाल कोरोना संक्रमण के हल्के और मध्यम लक्षणों वाले मरीजों का इलाज करने में किया जा रहा है। कंपनी के मुताबिक, इस टेबलेट की कीमत भी 75 रुपए होगी।

Related posts