छुआछूत से नहीं फैलता ब्लैक फंगस, रंग के बजाय लक्षणों पर ध्यान दें: स्वास्थ्य मंत्रालय

चैतन्य भारत न्यूज

देश में कोरोना संकट के बीच ब्लैक फंगस का भी खतरा मंडरा रहा है। इसे ‘म्यूकर माइकोसिस’ भी कहा जाता है। ब्लैक फंगस के मामले देश में तेजी से फैल रहे हैं। अब तक दिल्ली, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में इसके मामले सामने आ चुके हैं। अब तक यह माना जा रहा था कि यह बीमारी एक से दूसरे में फैलती है। लेकिन अब स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह साफ कर दिया है कि ब्लैक फंगस संक्रामक बीमारी नहीं है। इम्यूनिटी की कमी ही ब्लैक फंगस का कारण है। ये साइनस, राइनो ऑर्बिटल और ब्रेन में असर करता है। ये छोटी आंत में भी देखा गया है। अलग-अलग रंगों से इसे पहचान देना गलत है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, ‘नाक के अंदर दर्द-परेशानी, गले में दर्द, चेहरे पर संवेदना कम हो जाना, पेट में दर्द होना इसके लक्षण हैं। रंग के बजाय लक्षणों पर ध्यान दें। इलाज जल्दी हो तो फायदा और बचाव जल्दी व निश्चित होता है।’

एम्स के निर्देशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि, ‘रिकवरी रेट में बढ़ोतरी के बाद लोगों को पोस्ट कोविड सिंड्रोम 12 हफ्ते तक रह सकते हैं। सांस की दिक्कत, खांसी, बदन सीने में दर्द, थकान, जोड़ों में दर्द, तनाव, अनिद्रा जैसी शिकायत रहती है। उनके लिए काउंसलिंग, रिबाबिलिटेशन और ट्रीटमेंट जरूरी है। योग भी काफी बेहतरीन काम करता है।’

उन्होंने कहा कि, ‘हमने कोरोना की पहली और दूसरी लहर में देखा कि बच्चों में संक्रमण बहुत कम पाया गया है, इसलिए अब तक ऐसा नहीं लगता है कि आगे जाकर कोविड की तीसरी लहर में बच्चों में कोविड संक्रमण देखा जाएगा।’

बता दें ब्लैक फंगस का संक्रमण किसी भी उम्र के लोगों को सकता है। अधिकांश लोग कभी न कभी इस फंगस के संपर्क में आएंगे। लेकिन जो लोग बीमार है उन्हें इस बीमारी के होने का खतरा सबसे अधिक होता है। कमजोर इम्यूनिटी के कारण यह तेजी से आपको अपना शिकार बना सकता है। इसके अलावा इन स्थितियों में भी आप इस बीमारी के शिकार हो सकते हैं।

इन लोगों को ब्लैक फंगस से अधिक खतरा

  • डायबिटीज के शिकार
  • स्टेरॉयड का ज्यादा इस्तेमाल करने से
  • कैंसर के मरीज
  • एड्स
  • अगर किसी भी प्रकार का अंग प्रत्यारोपित किया गया हो
  • स्टैम सेल ट्रांसप्लांट किया गया हो
  • अगर व्हाइट ब्लड सेल्स की कमी हो
  • शरीर में आयरन अधिक मात्रा में हो
  • खराब पोषण के कारण बेकार स्वास्थ्य
  • आपके शरीर में एसिड का असमान स्तर समय से पहले जन्म या जन्म के समय कम वजन होना
  • अगर आप किसी भी तरह की स्किन संबंधी समस्या जैसे जले, कटा हो इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

Related posts