फर्जी टीआरपी कांडः दो टीवी चैनलों के मालिक हिरासत में, रिपब्लिक टीवी ने पैसे देकर खरीदी TRP- मुंबई पुलिस

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने गुरुवार शाम टीवी चैनलों की टीआरपी को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि क्राइम ब्रांच की टीम ने फ्रॉड टीआरपी के रैकेट का भंडाफोड़ किया है जिसमें में अब तक तीन बड़े चैनलों का नाम सामने आया है। इतना ही नहीं बल्कि मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने साफ-साफ कहा कि रिपलब्कि टीवी पैसे देकर अपनी टीआरपी बढ़ाता था।

परमबीर सिंह के मुताबिक इस फ्रॉड में दो छोटे मराठी चैनल फखत मराठी और बॉक्स सिनेमा हैं इनके अलावा रिपब्लिक टीवी का नाम भी इस घोटाले में शामिल है। उन्होंने कहा कि इसके बदले लोगों को पैसे दिए जाते थे। मुंबई पुलिस के मुताबिक रिपब्लिक टीवी टीआरपी के लिए जोड़तोड़ में लगा हुआ था। मुंबई पुलिस कमिश्नर का दावा है कि कुछ अनपढ़ों के घर भी अंग्रेजी चैनल देखा जाता था, जबकि कुछ बंद घरों में भी टीवी चलता रहता था। जिन घरों में टीआरपी मीटर लगे हुए हैं, उन्हें एक ही चैनल देखने के लिए पेमेंट की जाती थी।

रिपब्लिक के प्रमोटर, डायरेक्टर और चैनल से जुड़े अन्य लोगों से इसमें पूछताछ हो सकती है। रिपब्लिक से जुड़े लोगों को आज या कल समन भेजा जा सकता है। मुंबई पुलिस प्रमुख के अनुसार दो चैनलों फख्त मराठी और बॉक्स सिनेमा के मालिकों को हिरासत में ले लिया गया है। एक आरोपी के पास से 20 लाख रुपए जब्त किए गए जबकि बैंक लॉकर में 8.5 लाख रुपए मिले हैं।

रिपब्लिक टीवी ने जारी किया अपना बयान

हालांकि मुंबई पुलिस की पीसी के बाद रिपब्लिक टीवी ने भी इस मुद्दे पर अपना आधिकारिक बयान जारी किया है। रिपब्लिक टीवी का कहना है कि चूंकि उन्होंने सुशांत केस में पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह से सवाल पूछे थे इसलिए अब रिपब्लिक टीवी पर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। बयान में कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह पर मानहानि का केस भी करेगा।

Related posts