आज है नागपंचमी, नाग देवता को करना है प्रसन्न तो इस विधि से करें पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त

nageshwar panchami, nageshwar panchami 2020

चैतन्य भारत न्यूज

सावन का महीना भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। सावन में आने वाले सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा का महत्व और भी बढ़ जाता है। 25 जुलाई के दिन सावन का तीसरा सोमवार है साथ ही नागपंचमी का भी पर्व है। सावन माह के शुक्ल पक्ष की पांचवीं तिथि को नागपंचमी का पर्व मनाया जाता है। आइए जानते हैं नागपंचमी की पूजा-विधि।

नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त

सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि का प्रारंभ 24 जुलाई शुक्रवार दोपहर 02 बजकर 34 मिनट से हो रहा है, जो 25 जुलाई शनिवार को दोपहर 12 बजकर 02 मिनट तक है।

नागपंचमी की पूजा-विधि

  • नागपंचमी के दिन सुबह स्नान करने के बाद घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर पूजा के स्थान पर गोबर से नाग बनाएं।
  • इसके बाद दूध, दूब, कुशा, चंदन, अक्षत, पुष्प आदि से नाग देवता की पूजा करते हैं।
  • मान्यता है कि नाग देवता को सुगंध अति प्रिय है। इसलिए इस दिन नाग देव की पूजा सुगंधित पुष्प और चंदन से करनी चाहिए।
  • इसके बाद लड्डू और मालपूओं का भोग बनाकर उन्हें भोग लगाया जाता है।
  • कहा जाता है कि इस दिन सर्प को दूध से स्नान कराने से सांप का भय नहीं रहता है।

पूजा के दौरान इस मंत्र का जाप करें

सर्वे नागा: प्रीयन्तां मे ये केचित् पृथ्वीतले
ये च हेलिमरीचिस्था ये न्तरे दिवि संस्थिता:।
ये नदीषु महानागा ये सरस्वतिगामिन:
ये च वापीतडागेषु तेषु सर्वेषु वै नम:।

Related posts