सतपुड़ा के जंगलों में छुपा है पृथ्वी का नागलोक, अमरनाथ से भी कठिन है यहां की यात्रा 

nagdwar temple

चैतन्य भारत न्यूज 

सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा का महत्व और भी बढ़ जाता है। शिवभक्त इस दिन मंदिरों में जाकर शिव की पूजा अर्चना करते हैं। आज नागपंचमी है और आज के दिन शिव शंकर के मंदिरों में भक्तों का तांता लगा हुआ है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं भगवान शिव के एक ऐसे मंदिर के बारे में जिसके दर्शन करने मात्र से व्यक्ति के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

दरअसल मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले के पचमढ़ी में घनी पहाड़ियों के बीच एक ऐसा देवस्थान है, जिसे नागलोक का मार्ग या नागद्वार के नाम से जाना जाता है। खास बात यह है कि, साल में सिर्फ एक बार ही नागद्वारी की यात्रा और दर्शन का मौका मिलता है। यहां हर साल नागपंचमी पर एक मेला लगता है जिसमें भाग लेने के लिए लोग अपनी जान जोखिम में डालकर कई किलोमीटर पैदल चलकर पहुंचते हैं। नागद्वार के अंदर चिंतामणि नाम की एक गुफा भी है जो 100 फीट लंबी है। इस गुफा में नागदेव की कई मूर्तियां हैं।

चिंतामणि गुफा से लगभग आधा किमी की दूरी पर एक गुफा में स्वर्ग द्वार है जिसमें भी नागदेव की कई सारी मूर्तियां हैं। बता दें 16 किमी की पैदल पहाड़ी यात्रा पूरी कर लौटने में भक्तों को दो दिन लगते हैं। मान्यता है कि, पहाड़ियों पर सर्पाकार पगडंडियों से नागद्वारी की कठिन यात्रा पूरी करने से कालसर्प दोष दूर होता है। नागद्वारी मंदिर की धार्मिक यात्रा को सैंकड़ों साल से ज्यादा हो गए हैं। कहा जाता है कि नागद्वारी यात्रा दुनिया की सबसे कठिन यात्रा है। यहां दुर्गम पहाड़ियों के बीच से होते हुए जहरीले और विषैले सांपों का सामना करते हुए नाग मंदिर तक पहुंचना होता है। हिंदुस्तान में हर साल होने वाली अमरनाथ यात्रा से भी इस यात्रा को कठिन माना गया है।

ये भी पढ़े… 

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन मात्र से दूर हो जाते हैं सभी कष्ट, जानिए इसकी विशेषता और महत्व

लंकापति रावण से जुड़ा है वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का संबंध, जानिए इसकी विशेषता और महत्व

त्र्यंबकेश्वर में एक साथ मौजूद हैं ब्रह्मा-विष्‍णु-महेश, जानिए इस ज्योतिर्लिंग की विशेषता और महत्व

Related posts