125 साल बाद सावन सोमवार के दिन बना नाग पंचमी का शुभ योग, कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए करें ये उपाय

nagpanchmi ,nagpanchmi 2019,nagpanchmi puja vidhi,nagpanchmi,kalsarp dosh ke upay

चैतन्य भारत न्यूज

17 जुलाई से सावन का सोमवार शुरू हो चुका है और आज सावन का पहला सोमवार है। इस बार सावन के पहले सोमवार के दिन खास योग बन रहा है क्योंकि आज नाग पंचमी भी है। वैसे तो सावन के सोमवार का महत्व सबसे अधिक होता है और ऐसे में आज नाग पंचमी का योग होने का कारण इस सोमवार का महत्व और ज्यादा बढ़ गया है। ज्योतिषों के मुताबिक, ऐसा 125 सालों बाद हो रहा है, जब सावन के पहले सोमवार के दिन नाग पंचमी का योग पड़ा है। नागपंचमी पर कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए भी विशेष पूजा की जाती है। आइए जानते हैं कालसर्प दोष को दूर करने के उपाय।

nagpanchmi ,nagpanchmi 2019,nagpanchmi puja vidhi,nagpanchmi,kalsarp dosh ke upay

क्या होता है कालसर्प दोष

किसी की कुंडली में कालसर्प दोष तब उत्पन्न होता है जब सभी 7 ग्रह यानी सूर्य, चंद्र, मंगल, शुक्र, बुध, बृहस्पति और शनि, राहु और केतु के बीच में आ जाएं। जिन लोगों पर इस दोष का प्रभाव होता है, उन्हें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन नागपंचमी पर कुछ विशेष उपायों से आप यह दोष कम कर सकते हैं।

nagpanchmi ,nagpanchmi 2019,nagpanchmi puja vidhi,nagpanchmi,kalsarp dosh ke upay

नागपंचमी पर कालसर्प दोष के उपाय

  • कालसर्प दोष दूर करने के लिए नागपंचमी के दिन चांदी के नाग- नागिन के जोड़े की विधिवत पूजा करें।
  • पूजा करने के बाद नाग-नागिन के जोड़े को बहते जल में प्रवाहित कर दें।
  • नागपंचमी के दिन किसी ऐसे शिव मंदिर में जाएं जहां नाग न हो। वहां जाकर चांदी के नाग को चढ़ाएं।
  • इसके अलावा नागपंचमी के दिन भगवान शिव के मंदिर में जाकर गुलाब इत्र चढ़ाएं और प्रतिदिन उसी इत्र को लगाएं।
  • नागपंचमी के दिन शिवलिंग पर चंदन तथा चंदन का इत्र लगाएं।
  • नागपंचमी के दिन रुद्राभिषेक कराएं और शिवमंत्र का 108 बार जाप करें।

nagpanchmi ,nagpanchmi 2019,nagpanchmi puja vidhi,nagpanchmi,kalsarp dosh ke upay

जानिए कितने प्रकार के होते हैं कालसर्प दोष

  • कुलिक कालसर्प दोष।
  • वासुकी कालसर्प दोष।
  • शंखपाल कालसर्प दोष।
  • पद्म कालसर्प दोष।
  • महापद्म कालसर्प दोष।
  • तक्षक कालसर्प दोष।
  • कर्कोट कालसर्प दोष।
  • शंखनाद कालसर्प दोष।
  • पातक कालसर्प दोष।
  • विषाक्तर कालसर्प दोष।
  • शेषनाग कालसर्प दोष।

ये भी पढ़े…

जानिए क्यों सावन में की जाती है शिव की पूजा, इस महीने भूलकर भी न करें ये गलतियां

ये हैं देश में अलग-अलग स्थानों पर स्थित भोलेनाथ के 12 ज्योतिर्लिंग..!

जानिए भगवान शिव के प्रथम ज्योतिर्लिंग सोमनाथ का इतिहास और इसका महत्व

Related posts