अंतरिक्ष में बनने वाला है इतिहास, पहली बार एकसाथ स्पेसवॉक करेंगी दो महिलाएं

women astronaut

चैतन्य भारत न्यूज

न्यूयॉर्क. अंतरिक्ष में इतिहास बनने वाला है। दरअसल पहली बार ऐसा होगा जब दो महिला अंतरिक्ष यात्री एकसाथ अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) के बाहर स्पेसवॉक करेंगी। जी हां… नासा पहली बार बिना किसी पुरुष सहयोगी के महिलाओं की टीम को अंतरिक्ष में भेज रहा है।



नासा की दो महिला अंतरिक्ष यात्री जेसिका मीर और क्रिस्टीना कोच 21 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन से बाहर निकलकर स्पेस स्टेशन के सोलर पैनल में लगी लिथियम ऑयन बैटरी को बदलेंगी। इस चुनौतीपूर्ण स्पेसवॉक का नाम ‘ऑल वीमेन स्पेस वॉक’ है और इस ऐतिहासिक पल को दुनियाभर में देखा जाएगा। नासा द्वारा इसका लाइव प्रसारण किया जाएगा। बता दें जेसिका मीर अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन में मार्च से रह रही हैं, जबकि क्रिस्टीना सितंबर में ही वहां पहुंची हैं।

 

जानकारी के मुताबिक, अक्टूबर के महीने में महिलाओं द्वारा कुल मिलाकर 5 स्पेसवॉक किए जाएंगे। 21 अक्टूबर को अलग-अलग चरणों में अलग-अलग टीमें स्पेसवॉक करेगी। बता दें फिलहाल अंतरिक्ष स्टेशन पर जेसिका मीर, क्रिस्टीना कोच, एंड्रयू मॉर्गन, ओलेग स्क्रीपोचा, एलेक्जेंडर स्कवोर्तसोव और लूका परमितानो हैं। ये सभी महिलाएं अक्टूबर में ही अलग-अलग तारीखों पर स्पेसवॉक करेंगी। अक्टूबर के अलावा नवंबर और दिसंबर में भी पांच स्पेसवॉक रखी गई हैं।


नासा की ओर से जारी किए गए एक इंटरव्यू में जेसिका मीर ने कहा कि, ‘वे ऐतिहासिक अंतरिक्ष चहलकदमी के लिए उत्साहित हैं क्योंकि उन्होंने और क्रिस्टीना ने नासा में एकसाथ ही अंतरिक्ष यात्रा का प्रशिक्षण लिया है।’ बता दें जेसिका अपने पूरे गुट को ‘स्पेस सिस्टर्स’ कहकर संबोधित करती हैं। गौरतलब है कि, पहले यह स्पेसवॉक मार्च में होनी थी लेकिन अंतरिक्ष केंद्र में मध्यम आकार के स्पेससूट की कमी के चलते इसे रद्द कर दिया गया था।

ये भी पढ़े…

चंद्रयान-2 ने पहली बार भेजी तस्वीरें, दिखा अंतरिक्ष से धरती का बेहद खूबसूरत नजारा 

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने भेजी चांद की तस्वीर, इसरो ने बताया- चांद की मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में पता लगा

चंद्रयान-2 : इसरो ने देशवासियों का किया शुक्रियाअदा, लैंडर विक्रम से संपर्क की उम्मीदें खत्म!

Related posts