नासा जल्द ही ऐसे एस्ट्रॉयड पर भेजेगा यान, जिससे धरती का हर एक शख्स बन जाएगा अमीर

चैतन्य भारत न्यूज

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अब उस एस्ट्रॉयड (छोटा तारा) के बारे में जानकारी जुटा रहे है जो धरती के हर एक शख्स को अरबपति बना सकता है। जिस एस्ट्रॉयड की खोज में नासा जुटा है वह पूरा लोहे, निकल और सिलिका से निर्मित है। यदि इस एस्ट्रॉयड में मौजूद धातुओं को बेच दिया जाए तो धरती पर रहने वाले हर शख्स को करीब 10 हजार करोड़ रुपए मिलेंगे।

नासा द्वारा इस एस्ट्रॉयड का नाम 16 साइकी (16 Psyche) रखा गया है। जानकारी के मुताबिक, इस पूरे एस्ट्रॉयड पर मौजूद लोहे की कुल कीमत देखी जाए तो यह करीब 10000 क्वॉड्रिलियन पाउंड है। यानी 10000 के पीछे 15 जीरो। इसकी स्टडी करने वाले स्पेसक्राफ्ट का नाम भी साइकी ही रखा गया है। नासा का साइकी स्पेसक्राफ्ट साइकी 226 किलोमीटर चौड़े इस एस्ट्रॉयड का अध्ययन करेगा। स्पेसक्राफ्ट का क्रिटकिल डिजाइन स्टेज पूरा हो चुका है।

रिपोट्स के मुताबिक, 10000 क्वॉड्रिलियन पाउंड (10,000,000,000,000,000,000 पाउंड) यानी धरती पर मौजूद हर आदमी को करीब 10 हजार करोड़ रुपए मिलेंगे। यह कीमत उस एस्ट्रॉयड पर मौजूद सिर्फ लोहे की है। एस्ट्रॉयड 16 साइकी मंगल और बृहस्पति ग्रह के बीच घूम रहे एस्ट्रॉयड बेल्ट में है। नासा ने स्पेस एक्स के मालिक एलन मस्क से मदद मांगते हुए कहा है कि वे इस एस्ट्रॉयड पर मौजूद लोहे की जांच के लिए अपने अंतरिक्षयान से मिशन शुरू करें।

एस्ट्रॉयड 16 साइकी हमारे सूरज के चारों तरफ एक चक्कर पांच साल में लगाता है। इसका एक दिन 4.196 घंटे का होता है। इसका वजन धरती के चंद्रमा के वजन का करीब 1 फीसदी ही है। नासा का कहना है कि इस एस्ट्रॉयड को धरती के करीब लाने की कोई योजना नहीं है। लेकिन इसपर जाकर इसके लोहे की जांच करने की योजना बनाई जा रही है।

नासा की तैयारी है कि वह अगस्त 2022 में साइकी स्पेसक्राफ्ट को एस्ट्रॉयड 16 साइकी पर भेजे। अगर स्पेस एक्स अपने अंतरिक्षयान से कोई रोबोटिक मिशन इस एस्ट्रॉयड पर भेजेगा तो उसे वहां जाकर अध्ययन करके वापस आने में सात साल लगेंगे।

Related posts