18 मार्च को क्यों मनाया जाता है ‘आयुध निर्माण दिवस’? यह है देश की रक्षा का ‘चौथा हथियार’

national ordnance factories day

चैतन्य भारत न्यूज

भारत में हर वर्ष 18 मार्च को ‘आयुध निर्माण दिवस’ (Ordnance Factory Day) मनाया जाता है। इस दिन देशभर में रक्षा उपकरणों की प्रदर्शनी लगाईं जाती है। प्रदर्शनियों में बंदूकों, गोला-बारूद, राइफल्स, आर्टिलरी इत्यादि के प्रदर्शन का स्मरण किया जाता है। यह प्रदर्शनी सभी के लिए खुली रहती है। इसके अलावा प्रदर्शनी में कई पर्वतारोहण अभियानों की तस्वीर भी प्रदर्शित होती है।


आयुध निर्माण दिवस का इतिहास

18 मार्च 1802 को कोसीपुर, कोलकाता में स्थित भारत की सबसे पुरानी आयुध निर्माण फैक्ट्री का उत्पादन 18 मार्च 1802 को शुरू किया गया था। ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड को देश की रक्षा का ‘चौथा हथियार’ कहा जाता है। शेष तीन हथियार- नौसेना, वायुसेना और थलसेना है। जैसा कि ऑर्डनेंस फैक्ट्री को रक्षा का चौथा हथियार माना जाता है तो इसके लिए सरकार को एक विशेष दिन की आवश्यकता महसूस हुई। जिसके बाद 18 मार्च को ‘आयुध निर्माण दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया।

आयुध निर्माण दिवस का उद्देश्य

आयुध निर्माण दिवस के अवसर को सशस्त्र बलों के लिए उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों को सुनिश्चित करने और साथ ही कर्मचारियों के लिए बेहतर जीवन की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के माध्यम से आयुध मंडल के समर्पण की पुष्टि के लिए एक याद के रूप में मनाया जाता है। इस दिन आयुध कारखानों के कर्मचारियों को उनके बेहतर कार्य के लिए याद किया जाता है।

भारतीय आयुध निर्माणी

भारतीय आयुध निर्माणी एक भव्य औद्योगिक संरचना है। यह भारत सरकार द्वारा संचालित सबसे पुराना औद्योगिक संगठन और सरकार द्वारा संचालित दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादन संगठन है। इसका मुख्यालय कोलकाता में है। आयुध कारखानों के बोर्ड में 41 आयुध निर्माणी, 4 क्षेत्रीय सुरक्षा नियंत्रक, 3 क्षेत्रीय विपणन केंद्र और 9 प्रशिक्षण संस्थान शामिल हैं जो पूरे भारत में फैले हुए हैं।

ये भी पढ़े…

भारतीय नौसेना दिवस : विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी है भारतीय नौसेना, जानें कैसे हुई इसकी स्थापना

सशस्त्र सेना झंडा दिवस : देश के लिए हंसते-हंसते जान देने वालों को याद करने का दिन, जानें इसका इतिहास और महत्व

72वां सेना दिवस आज, तीनों सेना प्रमुखों ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

BSF स्थापना दिवस : आखिर क्यों हुआ था विश्व की सबसे बड़ी सीमा रक्षक फोर्स का गठन? जानें पूरी कहानी

 

Related posts