इस दिन शुरू होगी नवरात्रि, जानिए मां दुर्गा के नौ रूप, पूजा-विधि और महत्वपूर्ण तिथियों के बारे में

navratri 2019, navratri ki shuruat ,kab se shuru ho navratri, navratri 2019 ki puja vidhi and mahatav

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म का मुख्य त्योहार शारदीय नवरात्रि की शुरुआत आश्विन माह की शुक्ल प्रतिपदा यानी 29 सितंबर से हो रही है। कहा जा रहा है कि नवरात्रि में इस बार कई शुभ संयोग भी बन रहे हैं जिस कारण मां की उपासना से दोगुना लाभ प्राप्त होगा। तो आइए जानते हैं नवरात्रि व्रत की पूजा विधि और महत्वपूर्ण तिथियां।



navratri 2019, navratri ki shuruat ,kab se shuru ho navratri, navratri 2019 ki puja vidhi and mahatav

नवरात्रि की मुख्य तिथियां

  • 29 सितंबर, दिन रविवार को प्रतिपदा तिथि, घटस्थापना, मां शैलपुत्री की पूजा
  • 30 सितंबर, दिन सोमवार को द्वितीया तिथि, मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
  • 1 अक्टूबर, दिन मंगलवार को तृतीया तिथि, मां चंद्रघंटा की पूजा
  • 2 अक्टूबर, दिन बुधवार को चतुर्थी तिथि, मां कूष्मांडा की पूजा
  • 3 अक्टूबर,दिन गुरुवार को पंचमी तिथि, मां स्कंदमाता की पूजा
  • 4 अक्टूबर, दिन शुक्रवार को षष्ठी तिथि, मां कात्यायनी की पूजा
  • 5 अक्टूबर, दिन शनिवार को सप्तमी तिथि, मां कालरात्रि की पूजा
  • 6 अक्टूबर, दिन रविवार को अष्टमी तिथि, मां महागौरी, दुर्गा महा अष्टमी पूजा
  • 7 अक्टूबर, दिन सोमवार को नवमी तिथि, मां सिद्धिदात्री नवरात्रि पारणा
  • 8 अक्टूबर, दिन मंगलवार को दशमी तिथि, दुर्गा विसर्जन, विजय दशमी (दशहरा)

navratri 2019, navratri ki shuruat ,kab se shuru ho navratri, navratri 2019 ki puja vidhi and mahatav

नवरात्रि पूजा-विधि

  • नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ विभिन्न रूपों की पूजा की जाएगी। पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा होगी।
  • नवरात्रि के पहले दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान कर स्वच्छ कपड़े धारण करें।
  • इसके बाद पूजा घर में या किसी अन्य पवित्र स्थान पर स्वच्छ मिट्टी से बेदी बना लें। बेदी में जौ और गेहूं दोनों मिलाकर बो लें।
  • इसके बाद वेदी पर या फिर उसके पास पृथ्वी का पूजन करें साथ ही मिट्टी का कलश स्थापित करें।
  • इसके बाद उस कलश में आम के हरे पत्ते, दूर्वा, पंचामृत डालकर उसके मुंह पर सूत्र बांधें।

navratri 2019, navratri ki shuruat ,kab se shuru ho navratri, navratri 2019 ki puja vidhi and mahatav

  • कलश की स्थापना करने के बाद अब भगवान गणेश की पूजा करें।
  • फिर वेदी के किनारे पर देवी मां की मूर्ति की स्थापना करें।
  • इसके बाद मूर्ति का आसन, पाद्य, अर्ध, आचमन, स्नान, वस्त्र, गंध, अक्षत, फूल, धूप, दीप, नैवेद्य, नमस्कार, प्रार्थना आदि से पूजन करें।
  • नवरात्रि के दौरान स्वच्छता पर अधिक ध्यान दिया जाता है।
  • यदि पूरे विधि-विधान से माता की आराधना की जाए, तो वह प्रसन्न होती है।

ये भी पढ़े…

सितंबर महीने में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज-त्योहार, जानिए कब से शुरू हो रही नवरात्रि

ये हैं श्राद्ध के 6 पवित्र लाभ, पितरों के आशीष से पूर्ण होती हैं सभी मनोकामनाएं

श्राद्ध के दौरान इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न होंगे पूर्वज, जानें कितनी बार आत्मा को दें जल

Related posts