नवरात्रि के तीसरे दिन पूजी जाती है मां चंद्रघंटा, भय से मुक्ति पाने के लिए इस विधि से करें पूजा

navratri 2019,navratri 2019 maa chandraghanta

चैतन्य भारत न्यूज

शारदीय नवरात्रि शुरू हो चुकी है। नवरात्रि को लेकर पूरे देश के भक्तों में उत्साह है। इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग शक्ति स्वरूपों की पूजा की जाएगी। नवरात्रि के प्रथम दिन दुर्गा मां के शैलपुत्री अवतार, दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी माता तो तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना की जाती है। आइए जानते हैं मां चंद्रघंटा का महत्व और पूजा-विधि।



मां चंद्रघंटा का महत्व

मां दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। मान्यता है कि अगर मन में किसी तरह का कोई भय बना रहता है तो आप मां के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा का पूजन करें। नवरात्रि का तीसरा दिन भय से मुक्ति और अपार साहस प्राप्त करने का होता है। मां के चंद्रघंटा स्वरुप की मुद्रा युद्ध मुद्रा है। वहीं ज्योतिष शास्त्र में मां चंद्रघंटा का संबंध मंगल ग्रह से माना जाता है।

navratri 2019,navratri 2019 maa chandraghanta

मां चंद्रघंटा की पूजा-विधि

  • सबसे पहले सुबह नहा-धोकर साफ-सुथरे कपड़े पहन लें।
  • अब चंद्रघंटा देवी की पूजा के लिए उनका चित्र या मूर्ति पूजा के स्थान पर स्थापित करें।
  • माता के चित्र या मूर्ति पर फूल चढ़ाकर दीपक जलाएं और नैवेद्य अर्पण करें।
  • मां चंद्रघंटा के भोग में गाय के दूध से बने व्‍यंजनों का प्रयोग किया जाना चाहिए। मां को लाल सेब और गुड़ का भोग लगाएं।
  • इसके बाद मां चंद्रघंटा की कहानी पढ़ें और नीचे लिखे इस मंत्र का 108 बार जाप करें।

उपासना का मंत्र-

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।

प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥

ये भी पढ़े…

नवरात्रि में मां के 9 स्वरूपों को चढ़ाएं ये 9 भोग, पूरी होंगी सारी मनोकामनाएं

शारदीय नवरात्रि : नवरात्रि में इन गलतियों को करने से नहीं मिलता व्रत का पूरा फल

शारदीय नवरात्रि  : व्रत रखने वाले लोग इन नियमों का रखें खासतौर से ध्यान, वरना देवी हो जाएंगी रुष्ट

Related posts