नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को मारने के लिए लगाया था बम, विस्फोट में खुद के ही उड़ गए परखच्चे

चैतन्य भारत न्यूज

छत्तीसगढ़ में कांकेर जिले के अमाबेडा थाना क्षेत्र में एक ऐसा वाकया हुआ जिसे देख कर लगता है कि जैसी करनी वैसी भरनी। यह पूरा क्षेत्र नक्सलियों का है। उनकी साजिश तो सुरक्षा बलों को निशाना बनाने की थी, लेकिन वे खुद ही इसका हो गए। बम लगाते वक्त ब्लास्ट हुआ और एक नक्सली की मौत हो गई। दो घायल हैं। इसकी जानकारी नक्सलियों ने खुद जानकारी दी।

बम इतना शक्तिशाली था कि डीवीसी मेम्बर के चीथड़े पेड़ पर लटके मिले। तस्वीर आपको विचलित कर सकती है। इस बारे में नक्सलियों ने पर्चे भी फेंके और बैनर भी लगाया जिसमें लिखा था कि, ’18 फरवरी को आमाबेड़ा के गांव चुकपाल में सुबह 6।15 पर एक हादसा हुआ। इस हादसे में डीवीसी मेम्बर सोमाजी उर्फ सहदेव वेड़दा की मौत हो गई।’

 

यह हादसा 18 फरवरी को आमाबेड़ा के चुकपाल गांव में सुबह 6:15 बजे हुआ। जानकारी के मुताबिक, चुकपाल के इलाके में जहां विस्फोट हुआ वहां आसपास में कई प्रेशर बम लगाए गए थे। विस्फोट के बाद नक्सलियों ने ये बम वापस निकाल लिए। इससे छोटे-छोटे गड्ढे हो गए हैं।

जानकारी के मुताबिक यहां से कुछ दूर पर बोड़ागांव में बीएसएफ के कैम्प है। जहां गश्त में निकलने वाले जवान वापसी में कैम्प के करीब आने पर थोड़े सामान्य हो जाते है और कैम्प के बाहर कहीं जगह देख कर बैठ कर आराम करते हैं। शायद इसी को ध्यान में रख कर बड़ी संख्या में बम लगाए गए।

Related posts