जन्मदिन विशेष : पैसे की किल्लत के कारण नेहा कक्कड़ को जन्म नहीं देना चाहते थे माता-पिता, जगराता कर चलाती थी घर खर्च

चैतन्य भारत न्यूज

बॉलीवुड की मशहूर सिंगर नेहा कक्कड़ का आज 32वां जन्मदिन है। नेहा कक्कड़ के गानों को लोग खूब पसंद करते हैं। उनका गाया हर गाना चार्टबस्टर पर ट्रेंड करता है। लेकिन नेहा के लिए इस मुकाम तक पहुंचना इतना आसान नहीं था। उन्होंने अपने जीवन में खूब संघर्ष किया है तब जाकर आज नेहा इस मुकाम तक पहुंची हैं।

नेहा का जन्म 6 जून 1988 में ऋषिकेश में एक बहुत ही साधारण परिवार में हुआ था। नेहा के जन्म के चार साल बाद से ही उन्होंने अपनी बहन सोनू कक्कड़ के साथ जागरन में गाना गाना शुरू कर दिया था। नेहा की बहन सोनू पहले से ही माता पिता की मदद करती थीं जिन्हें देखकर नेहा ने भी खुद गाना सीख लिया। नेहा बचपन से ही सुरीली थीं जिसके कारण उन्हें खूब सराहना मिलती थी।

धीरे-धीरे नेहा ने सिंगिंग के रियलटी शो इंडियन आइडल के दूसरे सीजन में भाग लिया, जिसमें वह जल्दी ही एलिमिनेट हो गयी। कई संघर्षों के बाद, उन्होंने फिल्म ‘मीराबाई नॉट आउट’ में एक कोरस गायक के रूप में बॉलीवुड की शुरुआत की। फिल्म ‘कॉकटेल’ के डांस ट्रैक ‘सेकेंड हैंड जवानी’ के रिलीज होने से नेहा प्रमुखता से उभरीं, जिसके बाद यारियां के ‘सनी सनी’ और ‘क्वीन’ के ‘लंदन थुमकदा’ सहित कई अन्य लोकप्रिय पार्टी गाने गा कर वह आज मशहूर गायकों में शुमार हो गयी हैं।

हैरान करने वाली बात ये है कि नेहा कक्कड़ के माता-प‍िता उन्हें इस दुनिया में नहीं लाना चाहते थे। इस बात का खुलासा उनके भाई टोनी कक्कड़ ने क‍िया है। दरअसल स्टोरी ऑफ कक्कड़- 2 में नेहा के भाई टोनी ने एक कविता के माध्यम से पूरी कहानी बताई है। इस वीडियो में वह कहते हैं- ‘हालत इतने खराब थे, खाली खाली हाथ थे। ना ज्यादा पढे लिखे, भोले से मां बाप थे। पैसे नहीं होते थे, रातों में वो रोते थे।’ इसके आगे टोनी वीडियो में कहते हैं- ‘गर्भ था गिराना, पर बीते हफ्ते आठ थे। गर्मी का महीना, दिन था 6 जून का। शाम ढल रही थी और जन्म हुआ जुनून का।’ जब ये लाइनें टोनी कह रहे होते हैं, तब तस्वीरें नेहा की आती हैं जो इस बात की तरफ इशारा करती हैं वह नेहा की कहानी कह रहे हैं।

Related posts