डिजिटल धोखाधड़ी को रोकने के लिए डेबिट-क्रेडिट कार्ड से लेनदेन के नियमों में किया बदलाव, जानना बेहद जरूरी

debit credit card

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना काल में डिजिटल धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं। इस ठगी को रोकने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने अंतरराष्ट्रीय लेनदेन, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन और कॉन्टैक्टलेस लेनदेन के नियमों में बदलाव किया है। नई गाइडलाइंस एक अक्टूबर से लागू हो गई हैं। आइए जानते हैं इन नए नियमों के बारे में।

  • नियमों के मुताबिक, ग्राहकों को अपने डेबिट और क्रेडिट के लिए लिमिट सेट करना होगा।
  • ग्राहकों को एटीएम, पीओएस मशीन या ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने व ऑनलाइन खरीदारी की लिमिट तय करनी होगी।
  • आप ये लिमिट नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग या बैंक एटीएम पर जाकर तय कर सकते हैं।
  • डेबिट और क्रेडिट कार्ड ग्राहकों को अंतरराष्ट्रीय लेनदेन, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन और कॉन्टैक्टलेस लेनदेन को लेकर प्रेफरेंस दर्ज करना होगा यानी प्रायोरिटी सेट करनी होगी।
  • यदि ग्राहक को किसी विशेष सेवा की जरूरत होगी, तो ही उसे वह सेवा मिलेगी।
  • जिन ग्राहकों को नया कार्ड जारी किया जाएगा, उन्हें हर सेवा के लिए रजिस्टर करना होगा।
  • जब कार्ड जारी होगा, तो इसमें सिर्फ एटीएम व पीओएस मशीन से डोमेस्टिक लेनदेन की ही सुविधा उपलब्ध होगी और बाकी की सुविधाओं के लिए ग्राहकों को रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • कई अंतरराष्ट्रीय ई-कॉमर्स वेबसाइट्स न तो सीवीवी पिन मांगती हैं और न ही लेनदेन की पुष्टि करने के लिए ओटीपी भेजती हैं। ऐसे में नए नियम लागू होने के बाद अब लेनदेन नहीं हो पाएगा।
  • इसके साथ ही ग्राहकों को इसके लिए लिमिट भी तय करनी होगी। इससे लेनदेन सुरक्षित होगा और फ्रॉड पर  लगाम लगेगा।

ये भी पढ़े…

फ्री WIFI के लालच में आप हो सकते हैं हैकर्स का शिकार, इन बातों का रखें ध्यान

इन 4 एप्स को डाउनलोड करने से बचें, वरना खाली हो सकता है आपका बैंक खाता

आप खुद स्विच ऑन और ऑफ कर सकेंगे अपने डेबिट-क्रेडिट कार्ड, साइबर फ्रॉड पर लगेगी लगाम

Related posts