नए फ्लैट्स में होगा ‘वर्क फ्राम होम’ के लिए अलग से कमरा, ऑफिस जैसी मिलेगी सुविधाएं

online classes

चैतन्य भारत न्यूज

वाराणसी. देशभर में कोरोना संकट के बीच कई कंपनियां अपने कर्मचारियों से वर्क फ्रॉम होम करवा रही हैं। लॉकडाउन के बाद अनलॉक-1 में भी यह जारी है। कुछ लोगों के लिए वर्क फ्रॉम होम आसान है लेकिन कुछ के लिए मुश्किल भरा। इसकी वजह घर में जगह की कमी, ठीक माहौल न मिलना आदि। रियल स्टेट ने भी इसको महसूस किया।

कांफ्रेंसिंग से मिली मंजिल

ऐसे में लॉकडाउन के दौरान रियल स्टेट की यह परेशानी के समाधान के लिए 20 अप्रैल को उद्यमी रतन टाटा व दक्षिण अफ्रीका के मशहूर आर्किटेक्ट पीटर रिच ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी बिल्डर एवं डेवलपर्स एसोसिएशन से चर्चा की थी। इस दौरान फ्लैट में ऑफिस कांसेप्ट लाने को लेकर चर्चा हुई थी।

बिल्डरों से लोगों ने मांगा अलग से कमरा

लॉकडाउन से पहले फ्लैट बुक कराने वालों ने वर्क फार्म होम कल्चर को देखते हुए बिल्डरों से फ्लैट में अलग से एक कमरा निकालने का अनुरोध किया है। लेकिन बिल्डरों ने इसके लिए मना कर दिया। बिल्डरों का इस बारे में कहना है कि, ‘विकास प्राधिकरण से स्वीकृत मानचित्र में आफिस के लिए अलग से कमरा नहींं दर्शाया है। बदलाव करने पर प्रोजेक्ट फंस जाएगा।’

यह होगी खासियत

फ्लैट की खासियत यह होगी कि इसमें आने-जाने के लिए रास्ता बाहर से होगा। ऑफिस का रास्ता अंदर से होगा या नहीं यह फ्लैट के मालिक की मांग पर निर्भर करेगा। फ्लैट के अंदर किनारे पर एक रैक बनेगा जिस पर लैपटॉप या कंप्यूटर व फाइल रखने की व्यवस्था होगी। वहां मोबाइल चार्जिग, जूम एप या वीडियो कान्फ्रेंसिंग के लिए एलइडी टीवी, चार से पांच गेस्ट बैठने के लिए सोफा आदि की व्यवस्था होगी। बहुत कुछ बुकिंग कराने वाले के बजट पर निर्भर होगा। वर्क फ्रॉम होम की अच्छाई यह है कि ऐसा करने से प्रदूषण से निजात मिलेगी।

 

Related posts