निर्भया केसः दोषी विनय के वकील का दावा- उसे तिहाड़ में दिया गया धीमा जहर

vinay sharma

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. देश के बहुचर्चित निर्भया सामूहिक दुष्कर्म मामले में दोषी विनय द्वारा तिहाड़ प्रशासन पर बड़ा आरोप लगाया गया है। दोषी के वकील एपी सिंह ने कहा कि, ‘तिहाड़ में दोषी विनय शर्मा को धीमा जहर दिया गया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन कोई चिकित्सा रिपोर्ट नहीं दी जा रही।’



बता दें शनिवार को निर्भया दुष्कर्म मामले में दोषी विनय की एक याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हो रही थी। इस दौरान ही यह तिहाड़ जेल प्रशासन पर यह आरोप लगाया गया। हालांकि प्रशासन ने उनके आरोपों को गलत करार दिया है।

विनय ने शौचालय में की थी आत्महत्या की कोशिश

कुछ दिन पहले ही यह खबर आई थी कि तिहाड़ जेल में कड़ी सुरक्षा और सीसीटीवी कैमरे की निगरानी के बावजूद दोषी विनय शर्मा ने आत्महत्या की कोशिश की थी। विनय ने 15 जनवरी को फंदा लगाकर जान देने की कोशिश की थी। हालांकि, वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने समय रहते उसे बचा लिया था। इस मामले के सामने आने के बाद जानकारों ने बताया कि, दोषी को फांसी देने से पहले कई बातों का ख्याल रखा जाता है। सबसे अहम बात की दोषी बिलकुल स्वस्थ होना चाहिए। उस पर कोई भी केस बाकी नहीं रहना चाहिए। शायद यही वजह थी कि विनय ने खुद पर केस दर्ज कराने के लिए खुदकुशी करने की कोशिश की, जिससे कि उसके खिलाफ आत्महत्या का मामला दर्ज हो जाए।

दोषियों के पास बचे हैं ये विकल्प

बता दें कि दिल्ली कोर्ट ने निर्भया के चारों दोषियों के लिए नया डेथ वॉरंट जारी किया है। इसके तहत चारों दोषियों को 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका राष्ट्रपति के पास से खारिज होने के बाद उसके पास कोई भी विकल्प नहीं बचा है। दो दोषियों अक्षय और पवन के पास अभी भी क्यूरेटिव याचिका दाखिल करने का विकल्प है। जबकि अक्षय, पवन और विनय के पास राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास दया याचिका दाखिल करने का संवैधानिक विकल्प बचा है।

ये भी पढ़े…

निर्भया केस: दोषियों का फांसी से बचने का एक और हथकंडा हुआ फेल, कोर्ट ने आदेश देने से किया इनकार

निर्भया केस: खुद को नाबालिग बता रहा था दोषी पवन गुप्ता, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

निर्भया केस: सरकार पर भड़की निर्भया की मां, कहा- मुझे तो सरकार भी मुजरिम लग रही है

Related posts