निर्भया केस : सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पवन की याचिका, फांसी को भी टालने से किया इनकार

nirbhaya,nirbhaya case

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को निर्भया के चार दोषियों में शामिल पवन गुप्ता की क्यूरेटिव पिटीशन खारिज कर दी। पवन ने फांसी को उम्रकैद में बदलने की गुहार लगाई थी। उसके वकील एपी सिंह ने खुली अदालत में सुनवाई की मांग की थी।



इस पर जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली 5 जजों की बेंच ने कहा कि, सजा पर पुनर्विचार करने का कोई सवाल ही नहीं उठता है। अदालत ने दोषियों की फांसी पर रोक लगाने से भी इनकार किया है। हालांकि पवन के पास अभी राष्ट्रपति को दया याचिका दाखिल करने का विकल्प बचा हुआ है। इससे पहले बाकी तीन दोषियों की सुधारात्मक याचिका कोर्ट खारिज कर चुका है।

गौरतलब है कि, कानूनी तिकड़मों के चलते डेथ वारंट जारी होने के बावजूद दोषियों को फांसी नहीं हो सकी है। पिछले दिनों दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा था कि चारों को एक साथ फांसी होगी। इसे केंद्र और दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है, जिस पर 5 मार्च को सुनवाई है। वहीं दोषियों के पैतरों से दुखी निर्भया की मां ने कहा कि, ‘मैं 7 साल 3 महीने से संघर्ष कर रही हूं। वो कहते हैं हमें माफ कर दो। कोई कहता है कि मेरे पति, बच्चे की क्या गलती है। मैं कहती हूं कि मेरी बच्ची की क्या गलती थी?’

बता दें, पटियाला कोर्ट में एक दूसरे दोषी अक्षय ने 29 फरवरी को दोबारा याचिका लगाई है। जबकि जेल अथॉरिटी ने कहा कि पवन को छोड़कर सभी के कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं। ये जानबूझकर मामले को देरी कर रहे हैं। कोर्ट ने दोषी के वकील एपी सिंह को भी फटकार लगाई है।

ये भी पढ़े…

निर्भया केसः फिर टली निर्भया के दोषियों की फांसी! SC 5 मार्च को करेगा केंद्र सरकार की याचिका पर सुनवाई

निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की दोषी विनय की याचिका, कहा- मानसिक हालत बिलकुल ठीक है

निर्भया केस: फांसी से बचने के लिए दोषी विनय ने चली नई चाल, दीवार से फोड़ा अपना सिर

Related posts