निर्भया केस : पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई टली, SC के फैसले का इंतजार, मां ने रोते हुए कहा- दोषियों को फांसी कब होगी?

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म केस के चारों दोषियों को आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। लेकिन पटियाला हाइस कोर्ट में सुनवाई टल गई है। मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि, इस केस से जुड़ा एक मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। जब तक वहां मामले का निपटारा नहीं होता तब तक इस सुनवाई को टाल दिया जाता है। अब इस मामले में 18 दिसंबर को सुनवाई होगी।


कोर्ट ने दोषियों के वकील को लगाई फटकार

बता दें सुरक्षा कारणों से चारों दोषियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने दोषियों के वकील एपी सिंह को भी फटकार लगाई और कहा कि, ‘आप केस के दौरान कोर्ट में मौजूद नहीं होते हैं। आप इस मामले में कोई भी फैसला आने में देरी कर रहे हैं।’ वहीं इस मामले की सुनवाई के दौरान निर्भया के वकील ने कहा कि, ‘फांसी की तारीख तय होनी चाहिए। दया याचिका लगाने से डेथ वारेंट जारी होने का कोई लेना देना नहीं है। दया याचिका लगाने के लिए डेथ वारेंट को नहीं रोका जा सकता।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘यदि सुप्रीम कोर्ट पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करने जा रहा है, तो वे डेथ वारंट को स्थगित या स्टे कर सकते हैं। बाकी तीन दोषियों की पुनर्विचार खारिज हो चुकी है। उन्हें क्यूरेटिव पिटीशन दायर करने का अधिकार नहीं है।’

याकूब मेमन केस का हवाला दिया

निर्भया के वकील को जवाब देते हुए जज ने कहा कि, ‘जब तक पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट में लंबित है, तब तक ये कोर्ट डेथ वारेंट जारी नहीं कर सकती।’ इसके बाद निर्भया के वकील ने याकूब मेमन केस का हवाला दिया और कहा कि, ‘याकूब मेमन केस में कोई पुनर्विचार याचिका लंबित नहीं थी।’

मां ने रोते हुए कहा- दोषियों को फांसी कब होगी?

सुनवाई टलने के बाद निर्भया की मां ने रोते हुए सवाल किया कि, दोषियों को फांसी कब होगी? निर्भया की मां ने साल 2012 से चल रहे इंसाफ के इंतजार के लिए सिस्टम को दोषी ठहराया। साथ ही उन्होंने अक्षय की पुनर्विचार याचिका स्वीकार किए जाने पर भी हैरानी जताई थी। बता दें पिछली सुनवाई के दौरान निर्भया की मां ने कोर्ट से कहा था कि, एक-एक कर डाली जा रही याचिकाओं से समय खराब हो रहा है। इस पर कोर्ट ने कहा था कि, इस मामले में सभी दोषियों का एक साथ डेथ वारंट जारी किया जाएगा। साथ ही कोर्ट ने सभी दोषियों को एक साथ कोर्ट में पेश करने का आदेश जारी किया था।

17 दिसंबर को पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई

कहा जा रहा था कि 16 दिसंबर को निर्भया के गुनहगारों को फांसी दी जा सकती है, लेकिन फिलहाल एक बात तो तय हो गई है कि निर्भया के एक गुनाहगार को 17 दिसंबर तक फांसी नहीं होगी। दरअसल निर्भया के एक गुनहगार अक्षय कुमार सिंह ने अपनी फांसी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की है। उसकी याचिका पर 17 दिसंबर को सुनवाई होनी है।

ये भी पढ़े…

फांसी का खौफ, निर्भया के दोषियों का वजन घटने लगा, अन्य कैदियों से बंद की बातचीत

पीढ़ियों से लोगों को फांसी दे रहा है यह जल्लाद परिवार, भगत सिंह-कसाब को भी फंदे पर लटका चुका है, अब निर्भया के दोषियों की बारी

मौत करीब आते देख निर्भया के दोषी को याद आए वेद पुराण, फांसी से बचने के लिए कहा- दिल्ली गैस चैम्बर, प्रदूषण से ही मर जाऊंगा

Related posts