निर्भया केसः फिर टली निर्भया के दोषियों की फांसी! SC 5 मार्च को करेगा केंद्र सरकार की याचिका पर सुनवाई

nirbhaya

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की मांग वाली केंद्र सरकार की याचिका पर आज सुनवाई होनी थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई 5 मार्च तक के लिए टाल दी है।



सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एक बार फिर निर्भया के दुष्कर्मियों की फांसी टलने की चर्चाएं तेज हो गई हैं। दरअसल 17 फरवरी को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 3 मार्च सुबह 6 बजे फांसी देने का आदेश जारी किया था। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने चारों दोषियों- मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) को फांसी देने के लिए तीसरा डेथ वारंट जारी किया था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा 5 मार्च को सुनवाई का आदेश जारी होने के बाद एक बार फिर दोषियों की फांसी टलना संभव माना जा रहा है। हालांकि, अब तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

बता दें निर्भया कांड के चार दोषियों में से तीन के सभी कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं। चौथे दोषी पवन भी अपना विकल्प इस्तेमाल करने का इच्छुक नहीं लग रहा है। केंद्र सरकार ने याचिका दायर कर कहा था कि, ‘चारों दोषी साजिश के तहत एक के बाद एक अपने अपने कानूनी विकल्पों के इस्तेमाल कर रहे हैं। चारों दोषी कानून के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।’ इसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने चारों दोषियों को नोटिस जारी कर सभी कानूनी विकल्प एक हफ्ते के भीतर इस्तेमाल करने का समय दिया था। सरकार ने कोर्ट से यह गुहार भी लगाईं थी कि जिन दोषियों के कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं, उन्हें फांसी दे दी जाए। इसी याचिका पर आज सुनवाई होनी थी।

ये भी पढ़े…

निर्भया केस: फांसी से बचने के लिए दोषी विनय ने चली नई चाल, दीवार से फोड़ा अपना सिर

निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की दोषी विनय की याचिका, कहा- मानसिक हालत बिलकुल ठीक है

डेथ वारंट जारी न होने पर रो पड़ीं निर्भया की मां, कोर्ट के बाहर जमकर की नारेबाजी

निर्भया केस: कोर्ट का नया डेथ वारंट जारी करने से इनकार, कहा- जब कानून जिंदा रहने की इजाजत देता है तो फांसी देना पाप

Related posts