फांसी के आधे घंटे बाद तक लटके रहेंगे निर्भया के दोषी, फंदे पर किया जा रहा मक्खन का इस्तेमाल

nirbhaya case, nirbhaya case latest update

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म मामले में दोषियों को फांसी देने की तारीख करीब आ रही है। इस बीच दो दोषी विनय शर्मा और मुकेश सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन यानी सुधारात्मक याचिका दाखिल की है। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की तारीख 14 जनवरी तय की है। बता दें कोर्ट ने 22 जनवरी को दोषियों को फांसी पर लटकाने का डेथ वॉरंट जारी किया था।



माना जा रहा है कि दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी के फंदे पर लटका दिया जाएगा। हालांकि क्यूरेटिव याचिका और राष्ट्रपति से दया याचिका में कुछ समय लगता है तो फांसी की तारीख आगे बढ़ सकती है। बावजूद इसके तिहाड़ जेल में फांसी की तैयारियां जारी हैं। कहा जा रहा है कि, चारों दोषियों को मक्खन लगी रस्सियों से फांसी के तख्त पर लटकाया जाएगा। फांसी देने से ठीक एक दिन पहले 21 जनवरी को तमाम रस्सियों का फाइनल ट्रायल किया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक कैदी के वजन के हिसाब से उसकी डमी या फिर सैंड बैग (रेत से भरा बैग) को रस्सी पर लटकाकर देखा जाएगा।

फांसी के लिए 12 रस्सियों का इंतजाम

चारों दोषियों को फांसी देने के लिए 12 रस्सियों का इंतजाम किया गया है। जेल सूत्रों के मुताबिक, फांसी देने के लिए वैसे एक ही रस्सी की जरूरत होगी, लेकिन हर दोषी के लिए बैकअप के तौर पर दो-दो रस्सियां रिजर्व में रखने का आदेश है, जिससे फांसी के वक्त अगर रस्सी धोखा दे जाती है तो दूसरी रस्सी से फांसी दी जाए। यदि दूसरी रस्सी भी टूट जाए तो तीसरी रस्सी का इस्तेमाल किया जाए। इन रस्सियों का पहले परीक्षण किया जाएगा। इसके बाद इन रस्सियों पर मक्खन लगाकर कड़ी सुरक्षा में लॉक कर दिया जाएगा। इसके बाद अगले दिन यानी 22 जनवरी तक चारों को फांसी पर लटकाए जाने तक कड़ा पहरा होगा।

फांसी के बाद आधे घंटे लटके रहेंगे शव

जेल अधिकारियों के मुताबिक, चारों दोषियों को फांसी देने के बाद आधे-आधे घंटे तक फंदे पर लटया जाएगा। कहा जाता है कि फंदे पर इतने समय तक कोई भी शख्स जिंदा नहीं रह सकता। इसलिए फांसी देने के बाद आधे घंटे तक कैदी को लटकाए जाने का प्रावधान है। इसके बाद भी मौके पर उपस्थित अधिकारियों को लगता है कि किसी कैदी को और अधिक समय तक लटकाने की जरूरत है, तो ही उसे अधिक समय तक लटकाया जाएगा। नही तो डॉक्टर के मृत घोषित करने के बाद उनके शव को उतार लिया जाएगा।

ये भी पढ़े…

16 दिसंबर 2012: जब पार हुई थी इंसानियत की सारी हद, निर्भया की मां ने कहा- पहली बार घर में बेटी की लाश आई

निर्भया केस: दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देना चाहते हैं पवन जल्लाद, कहा- मेहनताने से करूंगा बेटी की शादी

निर्भया के दोषियों को खुद फांसी देना चाहती हैं यह महिला शूटर, अमित शाह को लिखी खून से चिट्ठी

Related posts