निर्भया केस : दोषियों के जीवन के आखिरी पल इस तरह बीतेंगे, कल सुबह होगी फांसी

nirbhaya,nirbhaya case

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया के चारों दोषियों को शुक्रवार सुबह 5:30 बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जानी है। पाटियाला हाउस कोर्ट ने डेथ वारंट की रोक की अर्जी को खारिज कर दिया है। इससे पहले फांसी के लिए तारीख 3 मार्च तय की गई थी जो टल गई थी। आइए ऐसे में जानते हैं फांसी से पहले उन्हें क्या खिलाया जाएगा।



nirbhaya,nirbhaya case जानकारी के मुताबिक, फांसी देने से पहले आरोपियों को सुबह चाय जेल प्रशासन की ओर से दी जाएगी। इसके बाद उन्हें नहाने को कहा जाता है, फिर उन्हें काले कपड़े पहनाए जाते हैं। जब आरोपियों का फांसी के लिए ले जाया जाएगा तो उनके चेहरे पर काला थैला लटका दिया जाएगा और पैरों में रस्सी बांध दी जाएगी। साथ ही हाथों में हथकड़ी लगा दी जाएगी।

nirbhaya,nirbhaya case

इसके बाद सुप्रीटेंडेंट के इशारे पर जल्लाद लीवर खींचता है और दोषी लटक जाता है। फांसी के दौरान इशारों में बात की जाती है। इशारों में बातचीत इसलिए होती है ताकि दोषी का ध्यान इधर-उधर न भटके। फांसी देने के बाद 2 घंटे तक फांसी के फंदे पर शरीर लटकता रहेगा, फिर डॉक्टर चेक करेंगे और मृत घोषित किया जाएगा।

nirbhaya,nirbhaya case

बता दें, निर्भया के चार दोषियों राम सिंह, मुकेश, विनय शर्मा और पवन गुप्ता को जल्लाद पवन फांसी के फंदे पर लटकाएगा। इससे पहले में वह पांच लोगों (दो पटियाला, एक आगरा, एक इलाहाबाद, एक मेरठ) को फांसी दे चुके हैं। जानकारी के मुताबिक, बक्सर से फांसी की रस्सी लाई गई है। वहीं आखिरी फांसी 2013 में अफजल गुरु को दी गई थी।

ये भी पढ़े…

निर्भया केस: दोषी विनय ने कहा-हमें फांसी देने से यदि बलात्कार रुक जाएं तो लटका दो

डेथ वारंट जारी न होने पर रो पड़ीं निर्भया की मां, कोर्ट के बाहर जमकर की नारेबाजी

7 साल बाद भी झकझोर कर रख देता है निर्भया कांड, जानें उस काली रात की पूरी कहानी

Related posts