निर्भया केस: सीजेआई बोबडे ने केस से खुद को किया अलग, दोषी की पुनर्विचार याचिका पर कल नई बेंच करेगी सुनवाई

justice bobde

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड में दोषी अक्षय कुमार सिंह की पुनर्विचार याचिका पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टल गई है। जानकारी के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने इस मामले से खुद को अलग कर लिया। उन्होंने इस मामले की सुनवाई के लिए तीन जजों की अलग बेंच गठित करने का आदेश दिया है, जो बुधवार सुबह 10:30 बजे इस पर सुनवाई करेगी।


निर्भया के दोषियों के पास कोई नेक काम करने का अंतिम मौका, संस्था ने तिहाड़ जेल को अंगदान के लिए लिखा पत्र

बता दें इस मामले में पहले सीजेआई एसए बोबडे, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच सुनवाई करने वाली थी। लेकिन अब बुधवार को नई बेंच इसकी सुनवाई करेगी। मुख्य न्यायाधीश ने इसके बारे में कहा है कि, ‘वह निजी कारणों से केस से अलग हो रहे हैं।’ माना जा रहा है कि नई बेंच में जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण तो रहेंगे ही और जस्टिस बोबडे की जगह कोई अन्य जज आएंगे।

सुनवाई से पहले निर्भया की मां ने क्या कहा

जानकारी के मुताबिक, अक्षय की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई शुरू होने के दस मिनट के भीतर ही टल गई। सुनवाई से पहले मंगलवार सुबह निर्भया की मां आशा देवी का बयान आया था। उन्होंने कहा था कि, ‘हमें विश्वास है कि हमें न्याय मिलेगा क्योंकि हमारे पास कोई अन्य विकल्प नहीं है। अगर कुलदीप सेंगर (उन्नाव रेप कांड में दोषी करार) और निर्भया के चारों दोषियों को फांसी होती है तो समाज में एक कड़ा संदेश जाएगा।’

निर्भया केस : पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई टली, SC के फैसले का इंतजार, मां ने रोते हुए कहा- दोषियों को फांसी कब होगी?

अक्षय के वकील ने दी दलील

सुनवाई शुरू होने के बाद अक्षय के वकील ने दलील दी कि, ‘प्रदूषण के चलते वैसे ही दिल्ली में लोगों की जिंदगी कम हो रही है, इसलिए उसकी मौत की सजा पर पुनर्विचार किया जाए।’ वहीं निर्भया की मां ने सुप्रीम कोर्ट से अक्षय की याचिका न स्वीकार करने की अपील की है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट अन्य तीन दोषी मुकेश, पवन गुप्ता और विनय शर्मा की पुनर्विचार याचिका को इसी साल 9 जुलाई को खारिज चुका है। निर्भया मामले में चार दोषियों को 2017 में मौत की सजा सुनाई गई थी।

ये भी पढ़े…

16 दिसंबर 2012: जब पार हुई थी इंसानियत की सारी हद, निर्भया की मां ने कहा- पहली बार घर में बेटी की लाश आई

निर्भया बरसी: 16 दिसंबर 2012 देश की सबसे शर्मनाक रात, आज भी इंसाफ की राह देख रहा परिवार

निर्भया के दोषियों को खुद फांसी देना चाहती हैं यह महिला शूटर, अमित शाह को लिखी खून से चिट्ठी

 

Related posts