बिहार: नीतीश कुमार के जीतने पर अपनी उंगलियां काट लेता है यह शख्स, अब तक काट चुका है चार उंगली

चैतन्य भारत न्यूज

जहानाबाद. बिहार में नई सरकार का गठन हो चुका है। एक बार फिर राज्य में नीतीश कुमार की सरकार बन गई है। एनडीए की जीत पर जहां मंदिरों में पूजा-अर्चना कर, पटाखे जलाकर, मिठाइयां बांटकर उत्सव मनाया गया तो वहीं एक ऐसा भी शख्स सामने आया है जिसने नीतीश कुमार के दोबारा मुख्यमंत्री बनने की खुशी में अपने हाथ की उंगली काट दी।

2005 में पहली बार काटी थी उंगली

बिहार के जहानाबाद जिले का रहने वाला ये युवक नीतीश कुमार का इतना बड़ा प्रशंसक है कि उनकी हर जीत पर अपनी उंगली काट लेता है। ऐसे ही बिहार में नीतीश सरकार बनने की खुशी में इस शख्स ने अपने हाथ की उंगली को काटकर खुशी मनाई। जहानाबाद जिले के घोसी थाना क्षेत्र के वैना गांव के इस 45 साल के शख्स का नाम अनिल शर्मा उर्फ अलीबाबा है जो इस बार फिर से उंगली काटकर सुर्खियों में है। अनिल शर्मा ऊर्फ अली बाबा ने सबसे पहले साल 2005 में अपनी उंगली काट कर गौरेया बाबा को चढ़ाई थी और इसके बाद से ये सिलसिला जारी है।

नीतीश को हारते देख छोड़ दिया था खाना-पीना

इसके बाद उसने साल 2010 में नीतीश की जीत पर अपने हाथ की दूसरी उंगली काट दी। फिर जब नीतीश कुमार 2015 में मुख्यमंत्री बने तब भी अनिल शर्मा ने अपनी एक और यानी तीसरी उंगली काटकर गौरैया बाबा को चढ़ाई और इस बार भी नीतीश की ताजपोशी होते ही उसने फिर वही काम किया। उंगली काटने की खबर मिलते ही गांव पहुंचे अनिल ने मीडिया वालों से इतना तक कहा कि, यदि इस बार नीतीश कुमार की सरकार नहीं बनती तो वो अपनी गर्दन भी काट लेता। उसने बताया कि, जिस तरह से एग्जिट पोल में नीतीश कुमार को हारते हुए दिखाया जा रहा था उससे वह इतना गमगीन हो गया कि उसने 4 दिनों तक है खाना पीना भी छोड़ दिया था।

जब तक नीतीश से नहीं होगु मुलाकात, तब तक नहीं होगा इलाज

अनिल ने बताया कि, वो नीतीश कुमार की जीत की खुशी में अपनी उंगली काटता रहता है। उसका यह भी कहना है कि, जब तक सीएम नीतीश उससे नहीं मिलेंगे वो अपना इलाज भी नहीं कराएगा। अनिल के गांव के ग्रामीणों ने बताया कि वो कहीं बाहर काम करता था लेकिन बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही गांव आकर उसने अपनी संपत्ति बेची और फिर नीतीश कुमार का प्रचार करने लगा।

Related posts