महाराष्ट्र मंत्रालय का केबिन नंबर 602, जिसमें बैठने से डरते हैं मंत्री, जानिए क्या है वजह

maharshtra mantralaya,maharshtra mantralaya room no. 602

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन के बाद अब उद्धव सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार की प्रक्रिया पूरी हो गई है। इस बीच मुंबई में मंत्रालय के परिसर में सभी मंत्रियों को केबिन देने का काम भी शुरू हो गया है। लेकिन मंत्रालय की बिल्डिंग में एक ऐसा केबिन भी है जिसमें कोई भी मंत्री बैठने को तैयार नहींं है। जी हां… मंत्रालय की छठीं मंजिल पर स्थित एक कमरे को कोई मंत्री नहीं लेना चाहता। आइए जानते हैं कि आखिर क्यों कोई मंत्री इस कमरे को नहीं लेना चाहता?



maharshtra mantralaya,maharshtra mantralaya room no. 602

क्या-क्या मंत्रालय की छठीं मंजिल पर?

महाराष्ट्र सरकार के मंत्रालय की छठीं मंजिल पर स्थित यह कमरा करीब 3000 वर्ग फीट का है। छठीं मंजिल पर एक कॉन्फ्रेंस रूम, ऑफिस स्टाफ हॉल और दो बड़े केबिन हैं।

क्या है केबिन नंबर 602 का खौफ?

जानकारी के मुताबिक, पहले इस केबिन को महाराष्ट्र की सत्ता का पावर सेंटर माना जाता था। पहले यहां सीएम, सबसे सीनियर मंत्री और मुख्य सचिव बैठते थे, लेकिन अब हर कोई इसे लेने से कतराता है। इस बार भी इस केबिन को किसी को आवंटित नहीं किया गया है। इस केबिन में अब इसलिए कोई नहीं बैठना चाहता क्योंकि यह अंधविश्वास है कि यहां जो बैठता है वह अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाता। कहा जाता है कि इस केबिन में बैठने वाले राज्य के तीन मंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सके हैं। कोई हार गया तो किसी की मौत हो गई। कहा जा रहा है कि सोमवार को अजित पवार ने भी इस केबिन को लेने से मना कर दिया।

maharshtra mantralaya,maharshtra mantralaya room no. 602

साल 2014 से कोई नहीं लेना चाहता केबिन नंबर 602

साल 2014 में बीजेपी की सरकार बनने के बाद ये केबिन वरिष्‍ठ नेता एकनाथ खडसे को दिया गया था। दो साल बाद ही खडसे एक घोटाले में फंस गए और उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। इसके बाद इस केबिन में कृषि मंत्री पांडुरंग फुंडकर बैठने लगे। सिर्फ दो साल में ही मई 2018 में हार्ट अटैक के बाद उनकी मौत हो गई। इसके बाद साल 2019 में बीजेपी के नेता अनिल बोंडे इसमें बैठने लगे। लेकिन, इस साल हुए विधानसभा चुनाव में उनकी हार हो गई। बस फिर क्या था इसके बाद यह अफवाह फैल गई कि यह कमरा ठीक नहीं है।

ये भी पढ़े….

महाराष्ट्र : अजित पवार फिर बने उपमुख्यमंत्री, आदित्य ठाकरे समेत इन्होंने ली मंत्री पद की शपथ

अमृता फडणवीस ने फिर उद्धव ठाकरे को बनाया निशाना, कहा- खराब नेता मिलना महाराष्ट्र की गलती नहीं लेकिन….

उद्धव ठाकरे के सरकारी बंगले की दीवार पर लिखे मिले अपशब्द, फडणवीस पर उठ रहे सवाल

Related posts