112 के अलावा इस एप पर भी मदद मांग सकती है महिलाएं

Women S Protection,

चैतन्य भारत न्यूज

हमेशा से महिलाओं की सुरक्षा समाज में एक अहम मुद्दा रहा है, लेकिन इस दिशा में अभी भी कई कड़े कदम उठाए जाने शेष हैं। महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार कई तरह के प्रयास कर रही है। इसी के तहत अमेरिका के इमरजेंसी नंबर 911 की तर्ज पर भारत में 112 नंबर शुरू हुआ।



इसी मकसद से कि महिलाओं को अलग-अलग इमरजेंसी नंबर याद नही रखने पड़े। जैसे कि पुलिस (100), वुमन एंड चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर (181) नंबर आदि। इसके अलावा ‘112 इंडिया एप’ के जरिए भी महिलाएं मदद ले सकती है। लेकिन अभी भी 10 राज्यों में यह सेवा उपलब्ध नही है।

जानकारी के मुताबिक, 112 इंडिया एप में महिलाओं के लिए खुद बोलने वाला (शाउट) फीचर डाला गया है जो इमरजेंसी रिस्पॉन्स सपोर्ट सिस्टम (ईआरएसएस) से जुड़ा होगा। इस सिस्टम के साथ पूरे देश में वालंटियर पंजीकृत किए गए हैं। जैसे ही महिला परेशानी में फंसने पर इस फीचर पर क्लिक करेगी तो यह सिस्टम तत्काल उसके आसपास मौजूद किसी भी वालंटियर को उसकी मदद के लिए सिग्नल भेज देगा।

यह एप परेशानी में फंसी महिला को जीपीएस की मदद से ट्रैक कर मदद पहुंचाने में भी वालंटियर की मदद करेगा। पुलिस के हेल्पलाइन नंबर 100, फायर के 101 नंबर, स्वास्थ्य के 108 नंबर और महिला सहायता के 1090 नंबर को एक ही जगह जोड़ते हुए इमरजेंसी नंबर 112 इंडिया एप के तहत ये सारी सेवाएं दी जाएंगी।

ये भी पढ़े…

प्रियंका रेड्डी हत्याकांड : आरोपितों ने किया सामूहिक दुष्कर्म, पूरी योजना के साथ दिया वारदात को अंजाम

हैदराबाद: जिस जगह महिला डॉक्टर के साथ दुष्कर्म कर जलाया, वहीं मिला एक और महिला का जला हुआ शव

सुनसान सड़क पर पंक्चर हुई गाड़ी, बहन को फोन पर कहा- मुझे डर लग रहा है, सुबह मिली जली हुई लाश

Related posts