कांग्रेस नेता का विवादित वीडियो वायरल, कहा- पेट्रोल-डीजल तैयार रखो और जैसे ही ऑर्डर मिले सब फूंक देना

pradeep manjhi odisha

चैतन्य भारत न्यूज

भुवनेश्वर. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हो रहा है। कांग्रेस भी इस कानून का लगातार विरोध कर रही है। इसी बीच ओडिशा में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व सांसद प्रदीप मांझी का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह अपने कार्यकर्ताओं को पेट्रोल और डीजल से सरकारी संपत्तियों को जलाने का फरमान दे रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने कांग्रेस के नेता के खिलाफ हिंसा भड़काने का केस दर्ज किया है।


प्रदीप मांझी यह विवादित बयान देते हुए कैमरे में कैद हुए हैं। दरअसल, ओडिशा के नबरंगनगर में एक नाबालिग के साथ दुष्कर्म और हत्या के मामले में कांग्रेस ने गुरुवार को पुलिस-प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए 12 घंटे का बंद बुलाया था। इस दौरान कांग्रेस सांसद को फोन पर किसी को यह कहते सुना गया था कि, ‘पेट्रोल और डीजल तैयार रखो, जैसे ही आदेश मिले सब फूंक देना, फिर देखते हैं आगे क्या होता है।’ इतना ही नहीं बल्कि मांझी ने कहा कि, ‘उन्हें पार्टी कार्यकर्ताओं के ऐसे निर्देश देने पर कोई अफसोस नहीं है।



बाद में प्रदीप मांझी ने अपने बयान को सही ठहरने की भी कोशिश की और कहा कि, ‘जब सरकार मासूम का रेप और हत्या जैसे मामले में कोई कदम ना उठाए तब हम लोगों ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की नीति अपनाई है।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘एक के बाद एक ऐसी घटनाएं हो रही हैं, लेकिन सरकार और गृह मंत्रालय कर कर रहा है, अब बहुत हो चुका।’

मांझी का बयान सामने आने के बाद बीजेपी को कांग्रेस पर निशाना साधने के लिए नया मुद्दा मिल गया है। बीजेपी आईटी सेल के इंचार्ज अमित मालवीय ने इस मामले को लेकर सीधे पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधा है। उन्होंने इस बयान से जुड़ी एक खबर के हवाले से लिखा कि, ‘इससे जाहिर है कि क्यों सोनिया गांधी ने CAA हिंसा पर दिया संबोधन में कभी शांति की अपील नहीं की, काडर कनफ्यूज जो हो जाता।’

ये भी पढ़े…

CAA : जुमे की नमाज से पहले पूरे प्रदेश में अलर्ट, यूपी के 21 शहरों में इंटरनेट बंद

नागरिकता कानून पर बवाल, विरोध में सत्याग्रह पर बैठी कांग्रेस, सोनिया-राहुल-मनमोहन ने पढ़ा संविधान का प्रस्तावना

उप्र में नागरिकता कानून पर बवाल, 9 लोगों की मौत, 21 जिलों में इंटरनेट बैन, 31 जनवरी तक धारा 144 लागू

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में बवाल, UP के गाजियाबाद, मेरठ, बरेली समेत 14 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद

Related posts