OTP नहीं आने से क्या आपको भी हो रही परेशानी? TRAI का यह नया नियम बना लाखों लोगों के लिए मुसीबत

mobile phone,mobile phone news, government planning for mobile number

चैतन्य भारत न्यूज

देश में हजारों-लाखों लोग मैसेज के माध्यम से ओटीपी यानी वन टाइम पासवर्ड समय से ना आने के कारण परेशान हो रहे हैं। यह दिक्कत सिर्फ बैंक, ई-कॉमर्स या अन्य कंपनियों की सर्विस इस्तेमाल करते वक्त ही नहीं आ रही, बल्कि को-विन रजिस्ट्रेशन, डेबिट कार्ड ट्रांजेक्शन और अन्य ऐसे सिस्टम का इस्तेमाल करने में भी हो रही है, जिनमें लॉगिन करने के लिए डबल ऑथेंटिकेशन की जरूरत होती है। बताया जा रहा है कि यह दिक्कत अगले कुछ दिनों तक और रह सकती है।

इस वजह से आ रही दिक्कत

इस गड़बड़ की वजह ट्राई का नया नियम है, जिससे ओटीपी सर्विस बुरी तरह प्रभावित हो गई है। टेलीकॉम कंपनियाें ने अनचाहे कॉल को लेकर सरकार की सख्ती के बाद इस बारे में एक नया नियम लागू कर दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दूरसंचार नियामक ट्राई ने उपभोक्ताओं को अवांछित (pesky) कॉल और फर्जी मैसेज की परेशानी से बचाने के लिए टेलीकॉम कंपनियों से ग्राहकों के रजिस्ट्रेशन और मानकीकरण के लिए नए नियम लागू करने को कहा है। रिलायंस जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने रविवार रात से ही इसे लागू कर दिया है।

यह दिक्कत नए SMS रेगुलेशन की वजह से हुई है। SMS से जुड़े नए रेगुलेशन इसलिए लागू किए गए हैं ताकि SMS के जरिए होने वाले फ्रॉड को रोका जा सके। लेकिन नए SMS रेगुलेशन को लागू करने के साथ ही कई दिक्कतें आने लगीं। पिछले महीने दिल्ली हाई कोर्ट ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) को आदेश दिया था कि वह तुरंत ऐसे फर्जी SMS पर रोक लगाए जिसकी वजह से आम लोग झांसे में आ जाते हैं। कोर्ट के इस आदेश को पूरा करने के लिए TRAI ने नया DLT सिस्टम शुरू किया। यह एक तरह के फिल्टर की तरह काम करेगा। दरअसल SMS Header यूनीक IDs होते हैं जिसके जरिए कमर्शियल टेक्स्ट मेसेज भेजे जाते हैं।

सरकार ने दिखाई सख्ती

सरकार इस मामले में हाल में सख्त हुई है। ग्राहकों को अनचाहे कॉमर्शियल कॉल या एसएमएस भेजने वाली कंपनियों पर जुर्माने का प्रविधान किया जा रहा है। ऐसे ऐप विकसित किए जाएंगे जिनके माध्यम से ग्राहक टेलीकॉम कंपनियों को अनचाहे कॉल, एसएमएस और वित्तीय धोखाधड़ी की शिकायत कर सकेंगे। वित्तीय धोखाधड़ी को रोकने के लिए डिजिटल इंटेलिजेंस यूनिट की स्थापना की जाएगी। हाल में टेलीकॉम मंत्री रवि शंकर प्रसाद की अध्यक्षता हुई एक बैठक में ये फैसले लिए गए थे। प्रसाद की वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कॉमर्शियल कॉल की संख्या बढ़ने की बात कही गई। अधिकारियों ने कहा कि ग्राहकों द्वारा डु नॉट डिस्टर्ब (डीएनडी) में रजिस्ट्रेशन करा दिए जाने के बावजूद उसी नंबर से लगातार कॉमर्शियल कॉल और एसएमएस आते रहते हैं। टेलीकॉम मंत्री ने ऐसी कंपनियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश भी दिए और उन पर जुर्माने का प्रविधान करने के लिए कहा।

Related posts