2018-19 में सबसे ज्यादा अनाथ बच्चों को मिली मां की गोद, लड़कियों का आंकड़ा ज्यादा

children adoption

चैतन्य भारत न्यूज

बच्चों को गोद लेने का सिलसिला कई सालों से चलता आ रहा है लेकिन ये आंकड़ा पिछले पांच साल में कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है। हाल ही में केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा) की एक रिपोर्ट जारी की गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2018-19 में करीब 4027 बच्चों को गोद लिया गया है। खास बात यह है कि इनमें से 2398 लड़कियां हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय लोगों ने 3374 और विदेशी लोगों ने 653 बच्चों को गोद लिया है। सबसे ज्यादा आंकड़ा महाराष्ट्र का है। महाराष्ट्र में 845 बच्चों को गोद लिया गया है। इनमें से 477 लड़कियां हैं।

  • हरियाणा में गोद लिए गए कुल 72 बच्चें हैं। इनमें से 45 लड़कियां हैं।
  • राजधानी दिल्ली में गोद लिए गए 153 बच्चें हैं। इनमें 103 लड़कियां हैं।
  • बता दें भारत में 6 साल की उम्र तक प्रति एक हजार लड़को पर 918 लड़कियां हैं।
  • देश के 100 जिलों में बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओ योजना चल रही है। केंद्रीय महिला और बाल विकास विभाग कारा के काम पर नजर रखता है।

पिछले कुछ सालों के आंकड़ों पर नजर डालें तो-

2018-19   –   4,027
2017-18   –   3,927
2016-17   –   3,788
2015-16   –   3,677
2014-15   –   3,988

बच्चों को गोद लेने के मामले में महाराष्ट्र सबसे आगे है। महाराष्ट्र ने कुल 845 बच्चों को गोद लिया गया है। दूसरे नंबर पर आता है कर्नाटक जहां 281 बच्चे, तीसरे पर ओडिशा जहां 244 बच्चे, चौथे पर मध्यप्रदेश जहां 239 बच्चे और पांचवें पर आता है दिल्ली जहां 153 बच्चों को गोद लिया गया है।

Related posts