चिदंबरम पर भ्रष्टाचार के 6 बड़े मामले लंबित, तीन मामले में पत्नी, बेटा और बहू भी आरोपित

p chidambaram cases

चैतन्य भारत न्यूज

पूर्व केंद्रीय मंत्री व गृह मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के खिलाफ रुपयों के हेरफेर व भ्रष्टाचार से जुड़े छह बड़े मामले चल रहे हैं। सभी मामले निचली या ऊपरी अदालतों में लंबित है। सभी में सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आयकर (आईटी) चिदंबरम से पूछताछ कर रही है या पूछताछ के लिए समन भेजा है। तीन मामलों में उन्हें अंतरिम जमानत भी मिल चुकी है। इतना ही नहीं, भ्रष्टाचार के तीन मामलों में चिदंबरम के साथ उनकी पत्नी नलिनी, बेटा कार्ति और बहू श्रीनिधि भी आरोपित हैं। बेटा कार्ति भी जमानत पर बाहर है।



प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने चिदंबरम के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच का दायरा बढ़ा दिया है। अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि जांच एजेंसी को संदेह है कि आईएनएक्स मीडिया एवं एयरसेल मैक्सिस के अलावा 4 और कारोबारी सौदों में कथित अवैध एफआईपीबी मंजूरी देने में चिदंबरम की भूमिका संदिग्ध है। एजेंसी को यह शक भी है कि कई शेल कंपनियों के माध्यम से करोड़ों रुपए की रिश्वत ली गई थी।

चार अन्य मामले डियाजियो स्कॉटलैंड लिमिटेड, कटारा होल्डिंग्स, एस्सार स्टील लिमिटेड और एलफोर्ज लिमिटेड से संबद्ध हैं। एजेंसी की जांच में पाया गया है कि पिता-पुत्र द्वारा ली गई रिश्वत के रुपयों का उपयोग उनके व्यक्तिगत खर्चों में, विदेशों मे दो दर्जन से अधिक खाते खोलने एवं उनमें पैसे जमा करने तथा मलेशिया, ब्रिटेन, स्पेन सहित अन्य देशों में अचल संपत्ति खरीदने में किया गया।

कार्ति चिदंबरम से जुड़ी एक कंपनी को एक ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड स्थित कंपनी से भारी रकम का भुगतान हुआ। इसका जिक्र पनामा पेपर्स में भी हुआ है।

इन मामलों में हैं आरोपित

आईएनएक्स मीडिया

पी. चिदंबरम पर पहला बड़ा आरोप 2007 में आईएनएक्स मीडिया ग्रुप को 305 करोड़ रुपए का विदेशी फंड लेने के लिए एफआईबीपी की मंजूरी में घपले का है। इस दौरान वे केंद्रीय वित्त मंत्री थे। वे जांच एजेंसियों के रडार पर तब आए जब आईएनएक्स की प्रमोटर इंद्राणी मुखर्जी ने ईडी से पूछताछ की। इंद्राणी ने बताया था कि चिदंबरम ने डील के बदले बेटे कार्ति को विदेशी धन के मामले में मदद करने की बात कही थी। गौरतलब है कि इंद्राणी अपनी बेटी की हत्या के आरोप में जेल में हैं।

सारदा चिटफंड घोटाला

यह पश्चिम बंगाल का बहुत बड़ा घोटाला है तथा इस पर अकसर राजनीति होती रहती है। चिदंबरम की वकील पत्नी नलिनी के खिलाफ सीबीआई सारदा चिटफंड घोटाले में आरोप पत्र दाखिल कर चुकी है। उन पर 1.4 करोड़ रुपए रिश्वत लेने का आरोप है। कलकत्ता हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक लगा रखी है।

ब्लैक मनी मामला

पी. चिदंबरम, उनकी पत्नी नलिनी, बेटे कार्ति, बहू श्रीनिधि पर ब्लैक मनी मामले में कर अधिनियम-2015 के तहत आरोप है। हालांकि मद्रास हाईकोर्ट ने 2018 में आईटी विभाग द्वारा केस चलाने के आदेश रद्द कर दिए थे।

एयरसेल- मैक्सिस सौदा

एक अन्य बड़ा मामला एयरसेल- मैक्सिस के बीच 3500 करोड़ रुपए के सौदे से जुड़ा है। इसमें भी सीबीआई जांच कर रही है। 2006 में मैक्सिस ने एयरसेल में 100 फीसदी हिस्सेदारी ली थी। चिदंबरम तक केंद्रीय वित्त मंत्री थे। 2-जी घोटाले से जुड़े इस केस में चिदंबरम पर हवाला केस दर्ज है। विदेशी निवेश को स्वीकृति देने की वित्त मंत्री की सीमा 600 करोड़ रुपए है फिर भी 3500 करोड़ रुपए की डील कैबिनेट समिति की मंजूरी के बिना पास कर दी गई।

एविएशन घोटाला

प्रवर्तन निदेशालय ने चिदंबरम को एविएशन घोटाले के आरोप में 23 अगस्त को पूछताछ के लिए समन भेजा है। इसमें 2007 में केंद्रीय वित्त मंत्री रहने के दौरान 111 यात्री विमान खरीद में घोटाले की जांच चल रही है।

इशरत जहां केस

चिदंबरम के खिलाफ इशरत जहां मामले से जुड़े एक हलफनामे में छेड़छाड़ करने से जुड़ी शिकायत पुलिस में लंबित है। आरोप है कि जब हलफनामे में छेड़छाड़ की गई थी, तब चिदंबरम गृह मंत्री थे।

ये भी पढ़े… 

चिदंबरम ने जिस लॉकअप का किया था उद्घाटन उसी में गुजारी रात, आज होगी कोर्ट में पेशी

CJI के पास पहुंचा चिदंबरम मामला, ईडी ने जारी किया लुकआउट सर्कुलर

पी. चिदंबरम पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार, प्रियंका गांधी ने कहा- कायर सरकार ने उन्हें शर्मनाक तरीके से टारगेट किया

Related posts