पाकिस्तान: कट्टरपंथियों ने की गणेश मंदिर में तोड़फोड़, मूर्तियों को खंडित किया, वीडियो वायरल

चैतन्य भारत न्यूज

लाहौर. पाकिस्तान में एक बार फिर कट्टरपंथियों ने मंदिर को निशाना बनाया है। मामला पंजाब के भोंग शहर का है। दिनदहाड़े मजहबी उन्मादियों ने स्थानीय गणेश मंदिर को निशाना बनाया। मंदिर में तोड़फोड़ का वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में साफतौर पर नजर आ रहा है कि पाकिस्तान में किस कदर अल्पसंख्यकों को कुचला जा रहा है, उनकी धार्मिक आजादी की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

मूर्तियों को किया खंडित

हमले के दौरान मंदिर के कुछ हिस्सों में आग लगा दी गई और मूर्तियों को नुकसान पहुंचाया गया। यह हमला लाहौर से करीब 590 किलोमीटर दूर रहीम यार खान जिले के भोंग शहर में गणेश मंदिर पर हुआ। कट्टरपंथियों ने मंदिर को बुरी तरह तहस-नहस कर दिया। मूर्तियों को भी खंडित करने से नहीं हिचके। झूमर और कांच की सजावट को भी तोड़ डाला। मंदिर पर हुए इस हमले के बाद स्थानीय हिंदुओं में खासा रोष है। इसके बावजूद स्थानीय प्रशासन मामले की लीपापोती करने में जुटा है। अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं की गई है। जबकि वीडियो में सभी हमलावरों के चेहरे साफ-साफ नजर आ रहे हैं।


सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सांसद डॉ रमेश कुमार वंकवानी ने अपने ट्विटर वॉल पर मंदिर हमले के वीडियो पोस्ट किए और स्थानीय प्रशासन से यह अनुरोध किया कि वे आगजनी और तोड़फोड़ रोकने के लिए घटनास्थल पर पहुंचें।उन्होंने कहा कि हालात तनावपूर्म हैं और स्थानीय पुलिस की लापरवाही बेहद शर्मनाक है। उन्होंने चीफ जस्टिस से कार्रवाई का अनुरोध करते हुए ट्वीट किया। डॉ वंकवानी ने आगे कहा, ‘भोंग में हिंदू मंदिर पर हमला करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। मैं उच्च अधिकारियों के संपर्क में हूं। अभी स्थिति बहुत गंभीर है।” उन्होंने कहा, “मुख्य न्यायाधीश से अनुरोध है कि कृपया कार्रवाई करें। धार्मिक सद्भाव समय की जरूरत है।’

जिला पुलिस अधिकारी रहीम यार खान असद सरफराज के अनुसार, पुलिस ने हालात को नियंत्रित कर लिया है और भीड़ को तितर-बितर करने में कामयाब रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘रेंजरों को बुलाया गया है और हिंदू मंदिर के आसपास तैनात किया गया है।’ उन्होंने बताया कि इलाके में करीब 100 हिंदू परिवार रह रहे हैं और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पुलिस को वहां तैनात किया गया है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

सरफराज ने कहा, ‘हमारी पहली प्राथमिकता कानून व्यवस्था बहाल करना और अल्पसंख्यक समुदाय को सुरक्षा प्रदान करना है।’ एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा कि मंदिर को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘हमलावर लाठी, पत्थर और ईंट ले जा रहे थे। उन्होंने धार्मिक नारे लगाते हुए देवताओं को तोड़ा,’ उन्होंने कहा, मंदिर का एक हिस्सा जला दिया गया है।

Related posts