पापमोचनी एकादशी आज, इस तरह करें श्रीहरि विष्‍णु की पूजा, जानिए इस व्रत का महत्व

papmochani ekadashi, papmochani ekadashi ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म में पापमोचनी एकादशी का काफी महत्व है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है। चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को पापमोचनी एकादशी कहा जाता है। इस बार पापमोचनी एकादशी 07 अप्रैल को यानी आज है। आइए जानते हैं पापमोचनी एकादशी का महत्व और पूजा-विधि।



papmochani ekadashi, papmochani ekadashi ka mahatava

पापमोचनी एकादशी का महत्व

हिंदू धर्म में चैत्र मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली पापमोचनी एकादशी का विशेष महत्‍व है। मान्‍यता है कि इसका व्रत करने से मनुष्य पापों से छूट कर मोक्ष को प्राप्त होता है। यही नहीं इसके प्रभाव से भूत, पिशाच आदि योनियों से भी मुक्त हो जाता है। इस दिन श्री हरि विष्‍णु की पूजा की जाती है। कहते हैं कि जिस मनुष्य ने इस एकादशी का व्रत किया है उसने मानो सब यज्ञ, जप, दान आदि कर लिए।

papmochani ekadashi, papmochani ekadashi ka mahatava

पापमोचनी एकादशी पूजा-विधि

  • एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्‍नान करें।
  • भगवान विष्‍णु का ध्‍यान करें और व्रत का संकल्‍प लें।
  • अब घर के मंदिर में एक चौकी में लाल कपड़ा बिछाकर भगवान विष्‍णु की प्रतिमा स्‍थापित करें।
  • अब एक लोटे में गंगाजल लें और उसमें तिल, रोली और अक्षत मिलाएं।
  • इसके बाद भगवान विष्‍णु को धूप-दीप दिखाकर उन्‍हें पुष्‍प अर्पित करें।
  • अब घी के दीपक से विष्‍णु की आरती उतारें और विष्‍णु सहस्‍नाम का पाठ करें।
  • एकादशी के दिन तिल का दान करना अच्‍छा माना जाता है।
  • शाम के समय भगवान विष्‍णु की पूजा कर फलाहार ग्रहण करें।

papmochani ekadashi, papmochani ekadashi ka mahatava

 

ये भी पढ़े…

इस देश में समुद्र के नीचे विराजमान हैं भगवान विष्णु, 5 हजार साल पुराना है मंदिर

गुरुवार को इस विधि से करें भगवान विष्णु की पूजा, घर में आएगी सुख-समृद्धि

तो इसलिए गुरूवार को भगवान विष्णु के साथ की जाती है केले के पेड़ की पूजा

Related posts