सांसद शांतनु सेन को केंद्रीय मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फाड़ने के आरोप में पूरे सत्र के लिए किया सस्पेंड

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. संसद के मानसून सत्र का चौथा दिन हंगामे की भेंट चढ़ता दिख रहा है। केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने अभद्रता की, जिसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया है। पेगासस जासूसी और कृषि कानूनों को लेकर सदन में हंगामे के चलते लोकसभा सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं, राज्यसभा की कार्यवाही 12।30 बजे तक के लिए स्थगित हुई है।

ये है मामला

बता दें गुरुवार को टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान सूचना प्रौद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथों से कागज छीन कर उसे फाड़ दिया था और हवा में फेंक दिया था। केंद्रीय मंत्री वैष्णव उस समय राज्य सभा में पेगासस सॉफ्टवेयर के जरिए जासूसी करने संबंधी खबरों और इस मामले में विपक्ष के आरोपों पर बयान दे रहे थे। इसके बाद शांतनु सेन के खिलाफ निलंबिन का प्रस्ताव पेश की। जिसपर सभापति ने शांतनु सेन को पूरे मानसून सत्र के लिए निलंबित कर दिया। शांतनु सेन ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने राज्यसभा में उन्हें अपशब्द कहे और वे मारपीट करने वाले थे, लेकिन सहयोगियों ने उनको बचा लिया।

2016 में लड़े थे विधानसभा चुनाव

तृणमूल कांग्रेस ने 2016 में शांतनु सेन को मुर्शिदाबाद के कांदी सीट से विधानसभा चुनाव में खड़ा भी किया था। लेकिन शांतनु सेन चुनाव नहीं जीत पाए और कांग्रेस के हाथों पराजित हुए थे। इसके बाद काउंसलर से टीएमसी ने शांतनु को राज्यसभा का टिकट दिया और राज्यसभा के सांसद बन गए।

Related posts