लालू प्रसाद यादव की अचानक तबीयत बिगड़ी, रिम्स अस्पताल में भर्ती, इन 15 बीमारियों से भी हैं पीड़ित

चैतन्य भारत न्यूज

चारा घोटाले में सजायाफ्ता राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की तबीयत गुरुवार की शाम अचानक बिगड़ गई। इसके बाद उन्हें रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। बताया जा रहा है कि उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगी। जानकारी मिलते ही डॉक्टर्स की टीम ने जांच की तो उनका ऑक्सीजन लेवल कम पाया गया। इस दौरान कोरोना जांच भी की गई। डॉक्टर्स के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में निमोनिया के लक्षण दिख रहे हैं।

रांची इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (RIMS) रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती लालू प्रसाद को लेकर अस्पताल के निदेशक ने बताया कि, उनकी तबीयत स्थिर है और दिल्ली एम्स के विशेषज्ञ डॉक्टरों से भी जांच टीम लगातार संपर्क में है। इस बीच उनके छोटे पुत्र व बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पत्नी व पूर्व सीएम राबड़ी देवी और बेटी मीसा भारती समेत कई परिजन व समर्थक रांची पहुंच गए हैं।

हाल ही में लालू यादव की बीमारी के बारे में तफ्शील रिपोर्ट सामने आई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, लालू प्रसाद यादव डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हृदय रोग, किडनी की बीमारी, किडनी में स्टोन, तनाव, थैलीसीमिया, प्रोस्टेट का बढ़ना, यूरिक एसिड का बढ़ना, ब्रेन से संबंधित बीमारी, कमजोर इम्यूनिटी, दाहिने कंधे की हड्डी में दिक्कत, पैर की हड्डी की समस्या, आंख में तकलीफ, POST AVR 2014 (ह्रदय से संबंधित बीमारी) जैसी समस्याओं से ग्रसित हैं। उनका इलाज कर रहे चिकित्सकों के अनुसार, इन सभी बीमारियों में लालू यादव सबसे ज्यादा किडनी की बीमारी से परेशान हैं।

लालू की देखरेख करते रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद ने बीते दिसंबर में बताया था कि, उनकी किडनी लेवल फोर्थ, यानी उनकी किडनी लास्ट स्टेज में है। किडनी सिर्फ 25% ही काम कर रही है और उनको कभी भी इमरजेंसी हो सकती है। उन्हें कभी भी डायलिसिस के लिए भी कहा जा सकता है। रिपोर्ट के आधार पर लालू यादव को नेफ्रोलॉजिस्ट, कार्डियोलॉजिस्ट और एंडोक्राइनोलॉजिस्ट की हर वक्त जरूरत रहती है। हालांकि डायबिटीज, ब्लड प्रेशर व हार्ट की समस्या कंट्रोल में है।

बता दें कि चारा घोटाला मामले में दोषी करार बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को 23 दिसंबर 2017 को जेल भेजा गया था। लालू यादव को जेल में 3 साल से अधिक हो गए हैं। वह पिछले ढाई साल से रिम्स में इलाज करा रहे हैं। जेल से 6 सितंबर 2018 को इलाज के लिए रिम्स में शिफ्ट किया गया था। तब से लेकर वह लगातार रिम्स में इलाज करा रहे हैं। लालू को सबसे पहले रिम्स के कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया था।

Related posts