मप्र: सांपों को लेकर इस गांव में अनोखी मान्यता, आर्थिक रूप से मजबूत होने के बाद भी लोग नहीं बनाते पक्के मकान

snake bite

चैतन्य भारत न्यूज

हमारे देश में कई ऐसी मान्यताएं हैं जो सदियों से चली आ रही हैं। ऐसी ही मान्यता मध्यप्रदेश के दमोह जिले के करैया राख नामक गांव में है जहां सांपों को कारण बताकर कच्चे मकानों में ही रहते हैं।

करैया राख गांव में 200 से ज्यादा परिवार कच्चे मकान में रहते हैं। ये सभी लोग आर्थिक रूप से मजबूत हैं। गांव में सभी आधुनिक सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। यहां लोग कृषि पर निर्भर हैं और यहां पर सभी के पास ट्रैक्टर, कार और टू व्हीलर वाहन हैं। लेकिन फिर भी कच्चे मकान में ही रहते हैं। दरअसल, यहां के लोगों का मानना है यहां पर पक्के मकान नहीं बनाए जाते क्योंकि ऐसा करने पर सांप उन्हें नुकसान पहुंचाते हैं जबकि कच्चे मकान में इस गांव में अभी तक किसी को सांप ने नुकसान नहीं पहुंचाया है।

लोगों की मान्यता है कि 500 साल पहले इस गांव के राजा के पास एक घोड़ा था जिसको चुराने के लिए कुछ चोर इस गांव में आए थे। चोर उस घोड़े को चुरा पाते उससे पहले एक सांप ने भविष्यवाणी की और चोरों को इस गांव से चले जाने को कहा। भविष्यवाणी में कहा गया था कि कोई भी इस गांव में पक्की ईंट नहीं लगाएगा। अगर कोई पक्की ईंट लगाता है तो उसे नाग देवता डस लेंगे। इसके बाद चोर इस गांव से चले गए और उसके बाद इस भविष्यवाणी की जानकारी पूरे गांव में आई।

बस इसी मान्यता के चलते लोग इस गांव में पक्के मकान नहीं बना रहे हैं। यहां के लोगों का कहना है कि इस गांव में खूब सांप रहते हैं इसके बावजूद भी लोगों को सांप नहीं काटते हैं।

Related posts