चिंताजनक: कोरोना वायरस से ठीक हो चुके लोग दोबारा हो रहे संक्रमित

चैतन्य भारत न्यूज

अगर आप कोरोना से जंग जीत चुके हैं तो बेफिक्र मत होइए। यह जानलेवा वायरस एक बार संक्रमित होकर ठीक हो चुके लोगों को दोबारा संक्रमित कर रहा है। जी हां… दिल्ली, मुंबई और तेलंगाना में हर आयु के ऐसे कई मरीज मिल रहे हैं जिन्हे एक बार ठीक होने के बाद दोबारा संक्रमण हो रहा है। विशेषज्ञों ने इसे लेकर चिंता जताई है।

दोबारा कोरोना संक्रमण होने को लेकर अब बीआरडी मेडिकल कॉलेज का माइक्रोबायोलॉजी विभाग होल जीनोम सिक्वेंसी के तहत शोध करेगा। शोध में यह देखा जाएगा कि दोबारा संक्रमण की वजह क्या रही? ठीक होने के बाद एंटीबॉडी कितने दिनों तक शरीर में रही है? साथ ही ऐसे मरीजों की प्रतिरोधक क्षमता का भी आंकलन किया जाएगा।

बता दें देशभर में कोरोना संक्रमण के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में चिंता बढ़ने लगी है। और अब ठीक हो चुके मरीजों में दोबारा संक्रमण होने बड़ी चुनौती बन गई है। मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अमरेश सिंह ने बताया कि, कोविड से ठीक हुए लोगों में दोबारा संक्रमण पाया गया है। ऐसे मरीजों की संख्या अब तक आठ से 10 के बीच है। बताया कि ऐसे लोगों में बाहरी वायरस से संक्रमण नहीं हुआ है बल्कि उनके शरीर में मौजूद वायरस फिर से खुद को बढ़ा रहा है। इसे चिकित्सा विज्ञान में बाउंसिंग बैक कहते हैं।

उन्होंने बताया कि होल जीनोम सिक्वेंसी के तहत इस पर शोध किया जाएगा। तभी इस बात की जानकारी मिल पाएगी कि आखिर वायरस दोबारा कहां से पनपा है। इसके लिए मरीजों की एंटीबॉडी भी चेक होगी। पता लगाया जाएगा कि आखिर उनके शरीर में एंटीबॉडी कितने दिनों तक विकसित रही है। क्योंकि आमतौर पर एक व्यक्ति के अंदर संक्रमण के बाद कम से 40 से 50 दिनों तक एंटीबॉडी विकसित रहती है। ऐसी स्थिति में अगर दूसरी बार व्यक्ति संक्रमित हो रहा है, तो बेहद चिंता की बात है।

Related posts