ब्राह्मणों को श्राद्ध का भोजन कराने के दौरान भूलकर भी न करें ये गलतियां

pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam, pitru paksha me brahman bhoj, pitru paksha me brahman bhoj ke niyam

चैतन्य भारत न्यूज

इन दिनों पितर पक्ष चल रहे हैं और ऐसा माना जाता है कि श्राद्ध पक्ष में हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं और श्राद्ध कर्म के माध्‍यम से भोग प्रसाद ग्रहण करके हमें आशीर्वाद देकर वापस अपने लोक चले जाते हैं। मान्यता है कि हमारे पितृ पशु-पक्षियों के माध्यम से हमारे पास आते हैं और इन्हीं के माध्यम से भोजन ग्रहण करते हैं।



pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam, pitru paksha me brahman bhoj, pitru paksha me brahman bhoj ke niyam

श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन का विशेष महत्व होता है। लेकिन इस दौरान ब्राह्मण भोजन के भी विशेष नियम होते हैं जिनका ध्यान रखना आवश्यक होता है। अगर आप भी श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मणों को भोजन करा रहे हैं तो इन बातों का विशेष तौर पर ध्यान रखें।

इन बातों का खास ख्याल रखें

  • श्राद्ध भोज करने वाला ब्राह्मण श्रोत्रिय होना चाहिए जो गायत्री का नित्य जप करता हो।
  • श्राद्ध भोज करने वाले ब्राह्मण को भोजन करते समय मौन रहकर भोजन करना चाहिए।
  • श्राद्ध भोज करते समय ब्राह्मण को भोजन की निंदा या प्रशंसा नहीं करनी चाहिए।
  • श्राद्ध भोज करने वाले ब्राह्मण से भोजन के विषय में अर्थात् ‘कैसा है’ कभी प्रश्न नहीं करना चाहिए।

pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam, pitru paksha me brahman bhoj, pitru paksha me brahman bhoj ke niyam

  • श्राद्ध में लोहे व मिट्टी के पात्रों का सर्वथा निषेध बताया गया है।
  • सोने, चांदी, कांसे और तांबे के बर्तन ही श्राद्ध पर ब्राह्मण भोज के लिए सर्वोत्तम हैं।
  • मान्यता है कि चांदी के बर्तन में भोजन कराने से पुण्य प्राप्त होता है। यही नहीं, पितर भी तृप्त होते हैं।
  • ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद उन्हें कपड़े, अनाज, दक्षिणा आदि दें और उनका आशीर्वाद लें।

ये भी पढ़े…

सबसे पहले इन्होंने किया था श्राद्ध, जानिए इसकी शुरुआत की कहानी

इस दिन से प्रारंभ हो रहा है पितृ पक्ष, जानिए श्राद्ध की महत्वपूर्ण तिथियां

पूर्वजों की पूजा करने से पहले जरुर जान ले पितृ पक्ष के ये महत्वपूर्ण नियम

Related posts