पूर्वजों की पूजा करने से पहले जरुर जान ले पितृ पक्ष के ये महत्वपूर्ण नियम

pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam,pitru paksha ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

हर साल आश्विन मास के कृष्ण में पितृ पक्ष आता है। इस साल 13 से 28 सितंबर तक पितृ पक्ष रहेगा। इस दौरान पितरों को तृप्‍त करना और उनकी आत्‍मा की शांति के लिए श्राद्ध किया जाता है।



pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam,pitru paksha ka mahatava

ऐसा माना जाता है कि पितृ पक्ष में हमारें पितर धरती पर आकर हमें आशीर्वाद देते हैं। ये पितृ पशु-पक्षियों के माध्यम से हमारे पास आते हैं और इन्हीं के माध्यम से भोजन ग्रहण करते हैं। लेकिन इस दौरान हमें कई तरह की सावधानियां बरतनी होती है, नहीं तो पितृ नाराज हो जाते हैं। आइए जानते हैं पितृ पक्ष के नियम।

ये हैं श्राद्ध के महत्वपूर्ण नियम

  • इस दौरान कोई भी शुभ कार्य, विशेष पूजा-पाठ और अनुष्‍ठान नहीं करना चाहिए। हालांकि देवताओं की नित्‍य पूजा को बंद नहीं करना चाहिए।
  • पितृ पक्ष में चना, मसूर, बैंगन, हींग, शलजम, मांस, लहसुन, प्‍याज और काला नमक भी नहीं खाया जाता है।
  • इस दौरान कई लोग नए वस्‍त्र, नया भवन, गहने या अन्‍य कीमती सामान नहीं खरीदते हैं।

pitru paksha 2019,pitru paksha ke niyam,pitru paksha ka mahatava

  • श्राद्ध के दौरान पान खाने, तेल लगाने और संभोग की मनाही है।
  • पितृपक्ष में हर दिन पानी में दूध, जौ, चावल और गंगाजल डालकर तर्पण किया जाना चाहिए।
  • इस दौरान रंगीन फूलों का इस्‍तेमाल भी वर्जित है।

ये भी पढ़े…

पितृ पक्ष में इन चीजों का दान माना गया है महादान, पूर्वज भी होते हैं प्रसन्न

पितृ पक्ष में इन बातों का रखें खास ख्याल, पितरों से मिलेगा शुभ फल और आशीर्वाद

इस दिन से प्रारंभ हो रहा है पितृ पक्ष, जानिए श्राद्ध की महत्वपूर्ण तिथियां

Related posts