शहीदों की याद में पीएम मोदी ने देश को समर्पित किया राष्ट्रीय युद्ध स्मारक

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली।  पीएम नरेंद्र मोदी ने आजादी के बाद देश के लिए अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों की याद में आज देश को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक समर्पित किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री सहित कई वरिष्ठ अधिकारी इंडिया गेट पर मौजूद रहे। प्रधानमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर इसका उद्घाटन किया और वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

 तीन सुपर स्पेशिएलिटी अस्पतालों की घोषणा

समारोह में पीएम ने देश की सेना और शहीदों के परिवारों के लिए अपनी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जिक्र किया। इस मौके पर उन्होंने रक्षा बलों के लिए तीन सुपर स्पेशिएलिटी अस्पतालों की घोषणा की। उन्होंने कहा, ”बहुत लंबे समय से आपकी मांग थी कि आपके लिए सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल बनाया जाए। आज इस ऐतिहासिक अवसर पर मुझे आपको ये बताने का सौभाग्य मिला है कि एक नहीं बल्कि हम ऐसे तीन सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल बनाने जा रहे हैं।”

20 एकड़ एरिया में फैला 

यह मेमोरियल 20 एकड़ एरिया में फैला है। प्रधानमंत्री ने 2014 में एक अत्याधुनिक विश्व स्तरीय स्मारक के रूप में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का अपना विजन प्रस्तुत किया था। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक उन सैनिकों का भी स्मरण करता है जिन्होंने शांतिवाहिनी मिशनों और अराजकता विरोधी अभियानों में अपना बलिदान दिया था।

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के बारे में

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के विन्यास में चार संकेंद्री वृत्त हैं, जिनमें ‘अमर चक्र’, ‘वीरता चक्र’, ‘त्याग चक्र’ और ‘रक्षक चक्र’ शामिल हैं। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक परिसर में एक केंद्रीय चतुष्कोण स्तंभ, एक शाश्वत लौ, और भारतीय सेना, वायु सेना और नौसेना द्वारा लड़ी गई प्रसिद्ध लड़ाइयों को दर्शाते छह कांस्य भित्ति चित्र शामिल हैं।

कांग्रेस पर साधा निशाना , नहीं रखा सुरक्षा का ध्यान

समारोह में पीएम ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि 2009 में सेना ने 1 लाख 86 हजार बुलेट प्रूफ जैकेट की मांग की थी। 2009 से लेकर 2014 तक पांच साल बीत गए, लेकिन सेना के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं खरीदी गई। ये हमारी ही सरकार है जिसने बीते साढ़े चार सालों में 2 लाख 30 हजार से ज्यादा बुलेट प्रूफ जैकेट खरीदी है।

 

Related posts