पीएम मोदी को दिया गया ‘गार्ड ऑफ ऑनर’, कहा- यहां आकर हमेशा सुखद अनुभव होता है

चैतन्य भारत न्यूज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दिल्ली के राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) के कार्यक्रम में हिस्सा लिया। पीएम मोदी को इस दौरान गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। पीएम मोदी के साथ इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत, तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहे।

पीएम मोदी ने यहां अपने संबोधन में कहा कि संविधान में नागरिक कर्तव्य की बात कही गई है, उन्हें निभाना सभी का दायित्व है। उन्होंने आगे कहा कि ‘एक समय हमारे देश में माओवाद-नक्सलवाद कितनी बड़ी समस्या थी। देश के सैकड़ों जिले इससे प्रभावित थे। हमारे सुरक्षाबलों का शौर्य आगे आया, तो देश में अब नक्सलवाद सिमटकर रह गया है।’

पीएम मोदी ने कहा कि यहां आकर हमेशा सुखद अनुभव होता है, हर किसी को गर्व होता है। पीएम मोदी ने कहा कि जिन देशों में समाज में अनुशासन होता है, वो देश हर क्षेत्र में परचम लहरा जाते हैं। सभी युवाओं को अपने साथ आसपास के लोगों को भी अनुशासन सिखाना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि देश में जहां भी कोई महत्वपूर्ण काम होता है, वहां हमेशा एनसीसी के कैडेट्स पहुंचते हैं और संकट के वक्त भी मदद करने पहुंचते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि संविधान में नागरिक कर्तव्य की बात कही गई है, उन्हें निभाना सभी का दायित्व है। देश में एक वक्त नक्सलवाद बड़ी समस्या थी, लेकिन लोगों की जागरुकता के कारण नक्सलवाद की कमर टूट गई।

पीएम मोदी ने कहा कि एनसीसी की भूमिका का विस्तार किया जाएगा, सीमावर्ती-समुद्री किनारों की सुरक्षा से जुड़े नेटवर्क को सशक्त करने के लिए एनसीसी की भागीदारी को बढ़ाया जा रहा है। इसके लिए एक लाख कैडेट्स को ट्रेनिंग दी जा रही है। सरकार की ओर से NCC कैडेट्स की ताकत को भी बढ़ाया जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि अब छात्राएं भी कैडेट्स का हिस्सा बड़ी संख्या में बन रही हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि दीवाली पर जब मैं लॉन्गेवाला पोस्ट पर गया तो कई अफसरों से मुलाकात की। सन 1971 के युद्ध में उस पोस्ट पर जवानों ने निर्णायक जीत हासिल की थी, तब पाकिस्तान से युद्ध के दौरान पूर्व-पश्चिम की पोस्ट पर भारत ने उन्हें धूल जटा दी थी। उस जंग में मिली जीत को अब 50 साल पूरे हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस साल में भारत आजादी के 75वें साल में प्रवेश कर जाएगा, नेताजी की जंयती भी मनाई जा रही है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने दुनिया की सबसे मजबूत सत्ता को हिलाकर रख दिया था। पीएम मोदी ने कहा कि 2047 में जब देश आजादी के सौ साल पूरे करेगा, तब आज के प्रयास सभी को मजबूती देंगे।

क्या है गार्ड ऑफ ऑनर?

गार्ड ऑफ ऑनर एक सम्मान है जो खास मौकों पर किसी अति विशिष्ट शख्सों (वीआईपी) के आगमन पर दिया जाता है। उनके सम्मान में सुरक्षाबलों के अधिकारी और कर्मचारी गार्ड ऑफ ऑनर देते हैं। परंपरा के दौरान अधिकारी व सुरक्षाकर्मी बैंड के साथ कदम और ताल मिलाते हैं और मार्च करते हुए निकलते हैं और वे सभी उस दौरान वीआईपी को सलामी भी देते हैं।

किसके लिए ये प्रोटोकॉल

यह परंपरा राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, उपराज्यपाल, रक्षा मंत्री, गृह मंत्री, गृह राज्य मंत्री, मुख्यमंत्री, किसी भी राज्य के गृह मंत्री, डीजीपी, एडीजीपी, आईजीपी, डीआईजीपी, दूसरे देश के राष्ट्राध्यक्ष और किसी अन्य देश के उप राष्ट्राध्यक्ष के आने पर भारत में अमल में लाई जाती है।

ये भी पढ़े…

इस शहर के राजा है प्रभु श्रीराम, कलेक्टर-SP सब करते हैं रिपोर्ट, गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया जाता है

राष्ट्रपति भवन में ट्रंप को दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर, राजघाट पहुंचकर बापू को दी श्रद्धांजलि

आर्मी चीफ पद से जनरल बिपिन रावत हुए रिटायर, मिला गार्ड ऑफ ऑनर, अब संभालेंगे CDS की कमान

Related posts