पीएम मोदी के नए मंत्रिमंडल में 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर, एक साल और ‘जवां’ होंगे सभी नेता

चैतन्य भारत न्यूज

मोदी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल का पहला कैबिनेट विस्तार आज शाम करने जा रही है। दावा किया जा रहा है कि पीएम मोदी की नई कैबिनेट पहले से ज्यादा ‘जवां’ होगी और इसकी औसत उम्र पिछली कैबिनेट से करीब डेढ़ साल कम होगी। दरअसल, पिछली कैबिनेट में मंत्रियों की औसत उम्र 59 साल थी, जिसमें सबसे युवा स्मृति ईरानी और सबसे बुजुर्ग रामविलास पासवान थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई कैबिनेट कैसी होगी, इसका एक खाका हाल ही में सामने आ गया है।

14 मंत्रियों की उम्र 50 से कम

जानकारी के मुताबिक, मोदी की नई कैबिनेट में चार पूर्व मुख्यमंत्रियों को जगह मिलने वाली है। कैबिनेट में 13 वकील, छह डॉक्टर, पांच इंजीनियर्स होंगे। कैबिनेट में युवाओं को जगह देने की कोशिश की गई है। 14 मंत्री ऐसे होंगे जिनकी उम्र 50 साल से नीचे होगी। मोदी की नई कैबिनेट में 18 पूर्व राज्य मंत्री होंगे। वहीं 39 पूर्व विधायकों को भी मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी। 23 ऐसे सांसद भी हैं जो तीन या उससे ज्यादा बार जीतकर आए हैं।

वकील, डॉक्टर के पेशे से जुड़े हैं मंत्री

मोदी की नई कैबिनेट में जिनको जगह मिलेगी उसमें से 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजिनियर, 7 पूर्व सिविल सर्वेंट हैं। साथ ही 46 ऐसे हैं जिनको केंद्र सरकार में काम करने का अनुभव है। कैबिनेट की औसत उम्र अब 58 साल है। 14 मंत्री ऐसे होंगे जिनकी उम्र 50 साल से नीचे होगी। मंत्रिमंडल में 11 महिलाओं को जगह दी जाएगी। इसमें से दो को कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा।

मोदी के नए मंत्रिमंडल में दिखेगी सोशल इंजीनियरिंग

मोदी के नए मंत्रिमंडल में 5 अल्पसंख्यक मंत्री होंगे। इसमें 1 मुस्लिम, 1 सिख, 2 बौद्ध, 1 ईसाई होंगे। मंत्रिमंडल में 27 ओबीसी मंत्री होंगे, जिनमें से 5 को कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा। इसके साथ ही 8 अनुसूचित जनजाति के होंगे, जिनमें से 3 को कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलेगा। 12 अनुसूचित जाति के होंगे, इनमें से 2 को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया जाएगा।

Related posts