पेट्रोल-डीजल की ‘शतक’ को लेकर पीएम मोदी ने तोड़ी चुप्पी, कहा- पहले की सरकार के कारण ये सब हो रहा….

petrol diesel price,petrol price,diesel price

चैतन्य भारत न्यूज

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों ने आम जनता को मुश्किल में डाल दिया है। पेट्रोल की कीमत तो जल्द ही शतक लगाने वाली है। ऐसे में हर कोई सरकार पर निशाना साध रहा है। इन सब के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर चुप्पी तोड़ दी है। पीएम मोदी ने पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर कहा कि, मध्यम वर्ग को ऐसी कठिनाई नहीं होती, यदि पहले की सरकारों ने ऊर्जा आयात की निर्भरता पर ध्यान दिया होता। उन्होंने बताया कि 2019-20 में भारत ने अपनी घरेलू मांगों को पूरा करने के लिए 85 प्रतिशत तेल और 53 प्रतिशत गैस का आयात किया है।

दरअसल बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु में तेल व गैस क्षेत्र की कई परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया। इसके साथ ही पीएम ने कई परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी। इसके अंतर्गत पीएम मोदी ने रामनाथपुरम-तुतुकुड़ी प्राकृतिक गैस परियोजना और मनाली स्थित चेन्नई पेट्रोलियम निगम लिमिटेड के गैसोलाइन विगंधकन (प्रदूषण को कम करने के लिए जीवाश्म ईंधनों को गंधक मुक्त करना) ईकाई को राष्ट्र को समर्पित किया।

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संबोधन में कहा कि, ‘भारत ऊर्जा की बढ़ती मांग की पूर्ति के लिए काम कर रहा है। भारत ऊर्जा आयात पर निर्भरता को भी कम कर रहा है। हम अपने आयात स्रोतों में विविधता ला रहे हैं। मैं किसी को दोषी नहीं ठहराना चाहता हूं, लेकिन यह काम अगर पहले हो जाता तो देश के मध्यम वर्ग के लोगों पर बोझ नहीं पड़ता।’

पीएम ने कहा कि, ‘वर्ष 2019-20 में हम रिफाइनिंग क्षमता में विश्व में चौथे स्थान पर थे। 65.2 मिलियन टन के करीब पेट्रोलियम प्रोडक्ट का निर्यात किया गया। आज भारत की गैस एवं तेल कंपनियां 27 देशों में काम कर रही हैं, जिनमें 2 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया है।’

उन्होंने कहा, ‘भारत अब किसानों और उपभोक्ताओं की मदद के लिए इथेनॉल पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। हम सभी लोगों से सौर ऊर्जा के क्षेत्र में अग्रणी बनने का आग्रह कर रहे हैं और सार्वजनिक परिवहन को प्रोत्साहित कर रहे हैं ताकि लोगों के जीवन को उपयोगी और आसान बनाया जा सके।’

गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमतें 89.29 रुपए और डीजल की दाम 79.70 रुपए के उच्चतम स्तर तक पहुंच चुके हैं। वहीं राजस्थान में तो पेट्रोल की कीमत 99 रुपए तक पहुंच गई है। ऐसे में तेल की एक-एक बूंद की अहमियत पता चलती है।

Related posts