मोर को दाना खिलाते हुए पीएम मोदी ने कविता के साथ शेयर किया वीडियो, प्रकृति प्रेम का दिया संदेश

चैतन्य भारत न्यूज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रकृति प्रेम एक वीडियो सोशल मीडियो के जरिए सामाने आया है। वीडियो में प्रधानमंत्री अपने आवास के लॉन में मोर को दाना खिला रहे हैं। साथ ही वे मोर की अठखेलियों को निहार रहे हैं। सोशल मीडिया पर पीएम मोदी के प्रकृति प्रेम का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

पीएम ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक बेहद सुंदर कविता के साथ यह वीडियो शेयर किया है। 1:46 मिनट के इस वीडियो में प्रधानमंत्री मोदी कई बार मोर को अपने हाथों से दाना खिलाते दिखाई दे रहे हैं। इस वीडियो को देखने से ऐसा लगता है कि जिस मोर को प्रधानमंत्री दाना खिला रहे हैं, वह उनसे काफी घुला-मिला हुआ है। वीडियो में ऐसा प्रतीत हो रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी को आता देख मोर बगीचे में नाचने लगता है और सारे पंख फैलाकर उनका अभिनंनंदन करता है।

 

View this post on Instagram

 

भोर भयो, बिन शोर, मन मोर, भयो विभोर, रग-रग है रंगा, नीला भूरा श्याम सुहाना, मनमोहक, मोर निराला। रंग है, पर राग नहीं, विराग का विश्वास यही, न चाह, न वाह, न आह, गूँजे घर-घर आज भी गान, जिये तो मुरली के साथ जाये तो मुरलीधर के ताज। जीवात्मा ही शिवात्मा, अंतर्मन की अनंत धारा मन मंदिर में उजियारा सारा, बिन वाद-विवाद, संवाद बिन सुर-स्वर, संदेश मोर चहकता मौन महकता।

A post shared by Narendra Modi (@narendramodi) on


मोरों के घूमना प्रधानमंत्री मोदी की दिनचर्या में शामिल है। वीडियो में वे अलग-अलग लोकेशन पर मोरों को हाथों से दाना खिलाते हुए नजर आ रहे हैं। वीडियो में जो कविता सुनाई दे रही है इसमें मोर, भोर, शांति, सुहानापन और मौन की अहमियत बताई है। मुरलीधर, जीवात्मा, शिवात्मा और अंतर्मन की बात भी की गई है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा से ही वन्य जीव संरक्षण पर काफी जोर देते रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के खास मौके पर प्रोजेक्ट लॉयन और डॉल्फिन के संरक्षण से जुड़ी योजनाओं का भी ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि, अपनी बायोडायवर्सिटी के संरक्षण और संवर्धन के लिए भारत पूरी तरह संवेदनशील है। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ सालों से देश में शेर और टाइगर की संख्या बढ़ी है। इसे देखते हुए अब देश में हमारे एशियाई शेरों के लिए एक प्रोजेक्ट लॉयन की भी शुरुआत की जाएगी। इसी के साथ डॉल्फिन के संरक्षण के लिए भी प्रोजेक्ट चलाया जाएगा।

Related posts