दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद पहले विदेश दौरे पर मोदी, 5 हजार साल पुराने मंदिर में करेंगे दर्शन

pm narendra modi,srilanka,maldives

चैतन्य भारत न्यूज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय मालदीव और श्रीलंका के दौरे के लिए शनिवार को रवाना होंगे। शुक्रवार रात करीब 1 बजे पीएम मोदी केरल के कोच्चि हवाई अड्डे पहुंचे। शनिवार को पीएम थ्रिसूर जिले के प्रसिद्ध गुरुवायूर मंदिर का दर्शन करेंगे।

बता दें गुरुवायूर मंदिर करीब 5 हजार साल पुराना है। साल 1638 में इसके कुछ भाग का पुनर्निमाण किया गया था। इस मंदिर में सिर्फ हिंदू धर्म के लोग ही पूजा-पाठ कर सकते हैं। दूसरे धर्मों के लोगों का मंदिर के अंदर प्रवेश निषेध है। मंदिर में दर्शन करने के बाद शनिवार को पीएम मोदी मालदीव रवाना होंगे। यहां शनिवार को रुकने के बाद रविवार को पीएम मोदी श्रीलंका पहुंचेंगे। यात्रा पर रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने कहा था कि, दोनों जगह उनका यह दौरा नेबरहुड फर्स्ट की नीति को दर्शाता है। उन्होंने ये भी कहा था कि, इस यात्रा से दोनों ही देशों से भारत के संबंध और मजबूत होंगे।

पीएम मोदी की श्रीलंका यात्रा वहां हुए आतंकी हमले को मद्देनजर रखते हुए द्वीपीय देश की सरकार एवं वहां के लोगों के प्रति भारत की एकजुटता व्यक्त करने के लिए है। पीएम मोदी ने शुक्रवार को अपनी यात्रा के बारे में कहा कि, मालदीव और श्रीलंका की यात्रा से भारत द्वारा ‘पड़ोस पहले’ नीति को दिया जाने वाला महत्व प्रतिबिंबित होता है और साथ ही इससे समुद्र से घिरे दोनों देशों के साथ द्विपक्षीय संबंध और मजबूत होंगे। पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं इसको लेकर आश्वस्त हूं कि मालदीव और श्रीलंका की मेरी यात्रा से हमारी ‘पड़ोस पहले नीति’ और क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा एवं प्रगति की दृष्टि के अनुरूप हमारे समुद्री पड़ोसी देशों के साथ हमारे नजदीकी एवं सौहार्दपूर्ण संबंध और मजबूत होंगे।’ सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी को मालदीव सरकार प्रतिष्ठित पुरस्कार ‘आर्डर आफ निशानीज्जुदीन’ से भी सम्मानित करेगी। गौरतलब है कि, नवंबर 2018 में पीएम मोदी मालदीव के राष्ट्रपति शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे।

Related posts