सिर पर था डेढ़ करोड़ का कर्ज, बीमा क्लेम के लिए खुद को मरा दिखाना था, कारोबारी ने गांव के एक युवक की हत्या कर जला डाला

चैतन्य भारत न्यूज

हरियाणा के हिसार से हाल ही में एक मामला सामने आया है। यहां के डाटा गांव निवासी राममेहर ने करोड़ों रुपए के कर्ज से मुक्ति पाने के लिए अपनी ही मौत की साजिश रची। राममेहर ने अपने ही गांव के बावरिया जाति के 28 वर्षीय रमलू को मोहरा बनाया और उसे शराब पिलाकर नशे में धुत्त करके बेहोश कर दिया। इसके बाद उसने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी। फिर राममेहर ने उसे गाड़ी में बैठाकर डीजल छिड़ककर गाड़ी को आग लगा दी जिससे रमलू जल गया।

इस तरह रचा अपनी ही मौत का ड्रामा

घटना का खुलासा हांसी के एसपी लोकेंद्र सिंह ने शनिवार शाम को आयोजित पत्रकारवार्ता में किया। एसपी ने बताया कि, गाड़ी में शव रमलू का होने की बात राममेहर ने कबूल की है लेकिन पुलिस स्वयं इस बात की जांच करेगी कि वह रमलू का ही शव था। डीएनए टेस्ट के लिए रमलू के शव की हड्डियों को लैब में भेजा जा चुका है। प्रारंभिक पूछताछ में राममेहर ने बताया कि, ‘लॉकडाउन के कारण फैक्ट्री में घाटा हुआ और वह डेढ़-दो करोड़ रुपए का कर्ज होने से परेशान हो चुका था। फिर उसने आत्महत्या करने की सोची। लेकिन फिर उसने अपनी ही मौत का ड्रामा रचा जिससे कि बीमे की रकम से कर्ज उतार सके और अपनी नई जिंदगी शुरू करने की साजिश रची।

कई माह पहले बना ली थी योजना

इससे पहले पुलिस शुक्रवार देर रात राममेहर को छत्तीसगढ़ से लेकर हांसी पहुंची। शनिवार दोपहर को उसे अदालत में पेश कर सात दिन का रिमांड हासिल किया गया। राममेहर ने कई माह पहले ही यह योजना बना ली थी। इसके चलते जुलाई में बीमा करवाया। कर्ज से छुटकारा पाने के लिए खुद की मौत की साजिश रच बीमा राशि लेने की योजना बनाई। गाड़ी में जो शव बरामद हुआ है, राममेहर ने उसे रमलू का बताया है, जिसकी उसने हत्या करके जलाया था लेकिन डीएनए रिपोर्ट आने के बाद इसकी पुष्टि होगी। -लोकेंद्र सिंह, एसपी, हांसी।

Related posts