चलती ट्रेन से गिरी दो साल की बच्ची, बचाने के लिए 3 किमी ट्रैक पर दौड़ी मां, बाल-बाल बची

चैतन्य भारत न्यूज

‘जाको राखे साइयां मार सके न कोय’। यह कहावत प्रयागराज में सच साबित हुई। यहां… चलती ट्रेन से दो साल की मासूम नीचे गिर गई। यह देख मां ने तुरंत चेन खींचकर ट्रेन रोकी और और तीन किमी दूर तक दौड़ लगा दी। जब बच्ची को सुरक्षित देखा तो मां की जान में जान आई।

ट्रेन में झाड़ू लगाकर करती है गुजारा

दरअसल, मानिकपुर की रहने वाली माया देवी (21) अपने पति मनोज कुमार से अलग रहती है। उसकी दो साल की एक बेटी सोनाक्षी है। वह ट्रेनों में झाडू लगाकर लोगों से पैसे मांगती है और अपना गुजारा करती है। इस दौरान बच्ची को भी अपने साथ रखती है। सोमवार को माया अपनी बेटी को लेकर मानिकपुर स्टेशन से गोदान एक्सप्रेस में झाडू लगाने के लिए चढ़ी थी। तभी सोनाक्षी अपनी मां का पल्लू पकड़कर ट्रेन के दरवाजे के पास खड़ी थी। लेकिन ट्रेन जसरा से जैसे ही आगे बढ़ी मनकवार गांव के सामने ट्रेन में झटका लगा और बच्ची गेट से नीचे गिर गई।

घास की वजह से नहीं आई ज्यादा चोट

बच्ची के गिरते ही मां बदहवास होकर चिलाने लगी। फिर वहां मौजूद लोगों ने चेन पुलिंग की। ट्रेन की स्पीड बहुत तेज थी। ऐसे में रुकते-रुकते ट्रेन करीब 3 किमी आगे जा पहुंची। जैसे ही ट्रेन रूकी, माया ने नंगे पांव पटरियों पर दौड़ लगा दी। उधर मनकवार गांव की आरती पटेल ने बच्ची को गिरते देख लिया था। बारिश के चलते रेलवे ट्रैक के किनारे बड़ी-बड़ी घास उग आई है। बच्ची छिटककर उसी घास पर आकर गिरी, जिससे उसे बहुत ज्यादा चोट नहीं आई। उसने तुरंत बच्ची को गोद में उठाया और देखा कि उसके सिर में चोट लगी है। फिर आरती ने तुरंत डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने बताया कि बच्ची सामान्य है।

बच्ची को ढूंढते हुए दौड़ती रही मां

इधर बेटी को बचाने के लिए ट्रैक पर माया दौड़ती जा रही थी। उसकी सांसें उखड़ रही थी लेकिन पैर नहीं थमे। बस बच्ची को ढूंढने की आस में वह दौड़ती रही। काफी दूर पहुंचने के बाद उसे एक जगह भीड़ नजर आई। उसे हैरान-परेशान देख लोगों ने पूछा क्या हुआ? तुम भाग क्यों रही हो? माया ने हांफते हुए उखड़ती सांसों के साथ कहा- साहब कुछ देर पहले ही मेरी बेटी यहीं ट्रेन से नीचे गिर गई थी। फिर लोगों ने कहा- अच्छा वो तुम्हारी बेटी है? फिर माया को उसकी बच्ची के पास पहुंचाया गया।

Related posts