प्रयागराज: पूरे पैसे नहीं दिए तो अस्पताल ने बगैर टांके लगाए बच्ची को निकाला, गेट पर तड़पकर पिता की गोद में तोड़ा दम

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जनपद में मानवता को तार-तार करने वाला मामला सामने आया है। शुक्रवार को चायल क्षेत्र के एक निजी अस्पताल की लापरवाही के चलते गेट पर ही एक तीन साल की मासूम ने तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया। आरोप है कि अस्पताल ने बच्ची के ऑपरेशन के बाद बिना टांका लगाए फटे पेट के साथ ही बाहर निकाल दिया।

करेली के करेंहदा निवासी मुकेश मिश्रा की तीन साल की बेटी खुशी मिश्रा को पेट दर्द की शिकायत थी। मां-बाप ने इलाज के लिए प्रयागराज के धूमनगंज के रावतपुर स्थित यूनाइटेड मेडिसिटी अस्पताल में भर्ती कराया। आंत मंम इन्फेक्शन बताकर कुछ दिन बाद बच्ची के पेट का ऑपरेशन किया गया लेकिन टांके वाली जगह पर पस की समस्या हो गई थी। चार-पांच दिन बाद उसी जगह पर एक और ऑपरेशन किया गया।

फटे पेट के साथ बच्ची को बाहर भेज दिया

बच्ची के पिता के मुताबिक, इस ऑपरेशन के लिए डेढ़ लाख रुपए ले लेने के बाद भी अस्पताल प्रशासन ने पांच लाख रुपए की डिमांड की। जब रुपए नहीं दे पाए तो अस्पताल प्रशासन ने बच्ची को फटे पेट के साथ ही परिवार समेत बाहर भेज दिया और कहा क‍ि अब इसका इलाज यहां नहीं हो पाएगा। इसके बाद बच्ची के पिता उसे लेकर कई अस्पतालों में भटके लेकिन सभी ने बच्ची को लेने से मना कर दिया गया। कहा गया कि बच्ची की हालत बहुत क्रिटिकल है, वह नहीं बच पाएगी।

पिता की गोद में अस्पताल के बाहर तोड़ा दम

इधर खुशी की हालत में सुधार नहीं हुआ तो मुकेश उसे लेकर शुक्रवार सुबह एक बार फिर उसी निजी अस्पताल गए, जहां खुशी का ऑपरेशन हुआ था। वहां गेट पर ही उन्हें रोक दिया गया। वह गोद में खुशी को लेकर करीब दो घंटे इधर से उधर भटकते रहे, लेकिन गार्ड ने उन्हें भीतर नहीं जाने दिया। इस बीच दर्द से तड़प रही खुशी ने अस्पताल के गेट पर पिता की गोद में ही दम तोड़ दिया। फिर बच्ची की मौत से नाराज परिजनों ने हंगामा कर दिया। अस्पताल प्रशासन की सूचना पर वहां पिपरी, कोखराज, परिश्चम शरीरा सहित कई थानों की फोर्स पहुंच गई। सीओ चायल भी पहुंचे।

जिलाधिकारी ने जांच कमेटी गठित की

इस मामले की ट्विटर पर शिकायत की गई जिसके बाद जिलाधिकारी ने एडीएम व सीएमओ की दो सदस्यीय टीम बनाकर मामले की जांच के आदेश दिए हैं। मामला तूल पकड़ने के बाद राष्ट्रीय बाल सुरक्षा आयोग(एनसीपीसीआर) ने प्रयागराज के डीएम को खत लिखकर मामले में उचित कार्रवाई के लिए कहा है। आयोग ने लिखा है कि डीएम इस मामले की सख्ती से जांच करें और उचित धाराओं में केस दर्ज हो।

 

Related posts