प्रयागराज: फरियादी से DSP ने कराया जूता पालिश, शिकायत सुने बिना ही भगा दिया, तस्वीर वायरल

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज. यूपी के प्रयागराज जिले में पुलिस के एक अधिकारी का अमानवीय चेहरा सामने आया है। इस अधिकारी की एक हरकत ने पुलिस प्रशासन को शर्मसार कर दिया है। दरअसल, प्रयागराज के नैनी डीएसपी शुभम तोदी पर आरोप लगा है कि शिकायत लेकर आए एक फरियादी से उन्होंने अपने जूते पॉलिश करवाए और बिना शिकायत सुने ही उसे भगा दिया। डीएसपी के जूता पालिश कराने की तस्वीर इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गई।

डीएसपी बोले- पहले जूते पॉलिश करो तभी बात सुनेंगे

मामला प्रयागराज के नैनी थाने का है। डीएसपी साहब नैनी थाना कैंपस में व्यापारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी दौरान जियालाल नाम का शख्स अपनी फरियाद लेकर पहुंचा था। जियालाल फुटपाथ पर जूते की मरम्मत और पॉलिश का काम करता है। जियालाल ने बताया कि कुछ लोगों ने उसके साथ मारपीट कर उससे आठ सौ रुपए छीन लिये थे। जियालाल इसी शिकायत को लेकर थाने पहुंचा था। इस पर डीएसपी ने उसे फटकार लगा दी और कहा कि पहले उनके जूते पॉलिश करे, तभी बात सुनी जाएगी। बताया जा रहा है कि जियालाल वहीं बैठकर उनका जूता तब तक पॉलिश करता रहा, जब तक डीएसपी ने उसे रोका नहीं।

डीएसपी की हो रही किरकिरी

जूता पॉलिश कराने के बाद डीएसपी ने उसे भगा दिया। इस घटना को देखकर बैठक में आए व्यापारियों को बुरा लगा। नैनी थाने की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। इस हरकत के लिए डीएसपी की खूब किरकिरी भी हो रही है। नैनी व्यापार मण्डल के अनुसार यह मामला पूरे इलाके में चर्चा का विषय बन गया है और लोग डीएसपी की इस हरकत से आहत हैं।

डीएसपी ने मामले को अफवाह बताया

हालांकि, डीएसपी का कहना है कि यह अफवाह है और फोटो को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। डीएसपी ने कहा कि, उन्होंने रेगुलर थाने आने वाले मोची से जूता पॉलिश कराया था। फोटो वायरल होने वाली बात पर उन्होंने कहा कि किसी शरारती तत्व ने फोटो को गलत तरीके से पेश किया है। उनपर लगे आरोप गलत हैं। ऐसा कुछ नहीं हुआ था।

ये भी पढ़े…

प्रयागराज में माघ मेले में जमीन आवंटन को लेकर आचार्यबाड़ा से जुड़े संतों के समर्थकों में मारपीट

माघ मेले से पहले काला हुआ गंगा का जल, संत समाज ने किया प्रशासन से लड़ाई का ऐलान

 

Related posts