इंसानी शर्मनाक करतूत, गर्भवती हथिनी को पटाखों भरा अनानास खिलाया, देशभर में हो रही दोषियों के खिलाफ कड़ी सजा की मांग

elephant

चैतन्य भारत न्यूज

दुनिया इस वक्त एक महासंकट से गुजर रही है। इस दौरान लोग मानवता का प्रदर्शन करने की जगह बेजुबानों पर अत्याचार कर रहे हैं। केरल में एक गर्भवती हथिनी की मौत का देशभर में प्रदर्शन हो रहा है। यहां एक भूखी गर्भवती हथिनी को अनानास में पटाखे भरकर दिए गए, जिसके बाद मुंह में पटाखे फट जाने से उसकी मौत हो गई। इसी के साथ इंसानियत एक बार फिर शर्मसार हुई।


ये घटना उत्तरी केरल के मलप्पुरम जिले की है। घटना की जानकारी एक वन अधिकारी ने अपने फेसबुक पेज पर दी। वन अधिकारी मोहन कृष्णन्न ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट कर बताया कि यह मादा हाथी खाने की तलाश में भटकते हुए जंगल से पास के गांव में आ गई थी। वह गलियों में घूम रही थी। इसके बाद कुछ लोगों ने उसे अनानास खिला दिया जिसमें पटाखे भरे थे। पटाखा हथिनी के मुंह में फूट गया और वह बुरी तरह जख्मी हो गई। इसके बावजूद भी उसने गांव में किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया। वह बेहद सीधी थी। वह इतनी बुरी तरह जख्मी हो गई थी कि कुछ खा भी नहीं पा रही थी। खाने की तलाश में वह वेल्लियार नदी तक पहुंची और नदी में मुंह डालकर खड़ी हो गई। शायद पानी में मुंह डालने से उसे आराम मिला हो।


हथिनी की जानकारी मिलने पर वन विभाग के कर्मचारी उसे रेस्क्यू करने पहुंचे। वह घंटों से पानी में खड़ी थी और बिल्कुल शांत थी। वह कुछ और दिन जीवित रहती तो एक स्वस्थ हाथी को जन्म देने वाली थी। चूंकि वह एक मां थी इसलिए अपने अंत समय में भी गर्भस्थ शिशु की चिंता कर रही थी। वन विभाग की टीम ने काफी मशक्कत के बाद उसे पानी से निकाल लिया, लेकिन शनिवार को उसकी मौत हो गई। उसे सम्मानजनक विदाई देने के लिए एक ट्रक मंगवाया और उसी जंगल में अंतिम विदाई दी, जहां उसका बचपन बीता और वो बड़ी हुई।


इस घटना के सामने आने के बाद केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि, ‘पर्यावरण मंत्रालय ने केरल में एक हाथी की मौत पर गंभीरता से लिया है। इस घटना पर पूरी रिपोर्ट मांगी है। अपराधी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’ मन्नरक्कड़ वन रेंज के अधिकारी ने बुधवार को बताया कि इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं वाइल्ड लाइफ एसओएस ने हत्या में शामिल आरोपियों को पकड़वाने पर एक लाख का इनाम घोषित किया गया है। जो भी इस केस में वन विभाग की मदद करेगा, उसके लिए वाइल्डलाइफ एसओएस की ओर से यह इनाम दिया जाएगा। गर्भवती हथिनी की मौत मामले पर एचएसआई इंडिया ने घोषणा की है कि जो कोई हथिनी के हत्यारों की पहचान कराने में मदद करेगा, उसके 50,000 रुपए पुरस्कार दिए जाएंगे।

Related posts