अब शिक्षा मंत्रालय के नाम से जाना जाएगा मानव संसाधन विकास मंत्रालय, राष्ट्रपति कोविंद ने दी मंजूरी

ramnath kovind,narendra modi,sansad

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय रखने को लेकर मंजूरी दे दी है। इसे लेकर सोमवार रात अधिसूचना जारी की गई जिसके मुताबिक, पिछले महीने के अंत में ही केंद्र सरकार ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय करने पर मंजूरी दें दी थी। साथ ही मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी है।

34 साल बाद आई नई शिक्षा नीति

बता दें प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल के दौरान 1985 में शिक्षा मंत्रालय का नाम एचआरडी मंत्रालय किया गया था। पीवी नरसिंह राव पहले एचआरडी मंत्री बने थे। पिछले महीने ही के कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले साल मानव संसाधन विकास मंत्रालय को नई शिक्षा नीति का मसौदा सौंपा था। 34 साल बाद भारत की नई शिक्षा नीति आई है। स्कूल-कॉलेज की व्यवस्था में बड़े बदलाव किए गए हैं। नई शिक्षा नीति अगले साल से प्रभावी हो जाएगी।

पीएम मोदी ने की थी नई शिक्षा नीति की तारीफ

नई शिक्षा नीति में स्कूली शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक कई अहम बदलाव किए गए हैं। मंत्रालय ने इस मसौदे पर लोगों को अपना सुझाव देने के लिए कहा था। इस मसौदे पर दो लाख से अधिक सुझाव मिले थे। प्रधानमंत्री ने भी अपने संबोधन में इस नई शिक्षा नीति की तारीफ की थी।

ये भी पढ़े…

भारत को महाशक्ति बनाने के लिए नई शिक्षा नीति 2020, जानिए नई शिक्षा नीति पर पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें

विस्तृत में जानिए नई शिक्षा नीति की 6 खास बातें

HRD का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय किया गया, 4 साल बाद आई भारत की नई शिक्षा नीति

Related posts