पीएम मोदी ने की राम मंदिर ट्रस्ट की घोषणा, नाम रखा ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’

ram mandir

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. मोदी मंत्रिमंडल ने बुधवार को हुई बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को मंजूरी दे दी है। बजट सत्र 2020 के दौरान लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, ‘रामजन्मभूमि से जुड़ा मुद्दा मेरे दिल के बहुत करीब है।’ उन्होंने बताया कि, ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ के गठन का प्रस्ताव रखा। कैबिनेट की बैठक में सरकार ने यह फैसला किया है।



प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, ‘67.03 एकड़ जमीन राम मंदिर ट्रस्ट को दी जाएगी। भगवान श्री राम की स्थिली पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट पूर्ण रूप से ऑथराइज्ड होगा।’ राम मंदिर से जुडे न्यास का ऐलान करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, ‘ट्रस्ट का नाम- श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र होगा और यह ट्रस्ट इससे जुड़े सभी फैसले लेने में स्वतंत्र होगी।’

उन्होंने कहा, ‘बहुत परामर्श और चर्चा के बाद, हमने अयोध्या में सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने के लिए यूपी सरकार से अनुरोध किया गया है। उन्होंने इस पर कार्य तेज कर दिया है।’ उन्होंने कहा कि, ‘सभी धर्म के लोग एक है परिवार के सदस्य सुखी समृद्ध हो और देश का विकास हो इसीलिए सबका साथ सबका विकास के मंत्र पर चल रहे हैं। अयोध्या में राम धाम के निर्माण के लिए एक स्वर में अपना मत दें।’

पीएम मोदी ने कहा, ‘अयोध्या में राम जन्मभूमि से जुड़ा है। कोर्ट के फैसले के मुताबिक उसपर रामलला का अधिकार है। कैबिनेट की बैठक में एक खास फैसला लिया गया। राम जन्मभूमि में मंदिर की निर्माण के लिए योजना तैयार की है।’

सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी या फिर गृहमंत्री अमित शाह आज राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट के सदस्यों के नाम का भी ऐलान कर सकते हैं। कहा जा रहा है कि ट्रस्ट में महंत नृत्य गोपाल दास को बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है। इसके अलावा राम मंदिर ट्रस्ट में दिगंबर अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा और रामलला विराजमान तीनों से एक-एक सदस्य को शामिल किया जाएगा। बता दें सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले के 87 दिन बाद राम मंदिर ट्रस्ट की रूपरेखा तैयार हुई है।

ये भी पढ़े…

राम मंदिर ट्रस्ट के लिए 17 लोगों की सूची तैयार 

अमित शाह ने किया ऐलान- अगले 4 माह में अयोध्या में बनने जा रहा आसमान छूता भव्य राम मंदिर

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की अयोध्या राम मंदिर फैसले के खिलाफ दायर सभी 18 पुनर्विचार याचिकाएं

 

Related posts